Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Mar 2024 · 1 min read

माँ सरस्वती प्रार्थना

हे वागेश्वरी हे वाक्येश्वरी
मैं मूर्ख तुम ज्ञानेश्वरी
दे कवित्व शक्ति, काव्य प्रतिभा
हे वीणापाणि हे धनेश्वरी
विद्या की देवी, वाणी की देवी
हे शारदा हे संध्येश्वरी
वागेश्वरी हे वाकेश्वरी……….

माँगू तुझसे भावों की सृष्टि
भावों से भर दे,शब्दों को घर दे
महाश्वेता तुम भावेश्वरी
हे हंसवाहिनी हे ज्ञानदायनी
पद्मासन हे पद्मेश्वरी
वागेश्वरी हे वाक्येश्वरी…………

जगतिख्याता , बुद्धि माता
प्राण तत्व सब , तुमसे ही पाता
सरस्वती माँ चंद्रकांतिदाशा
पाप हरणी अज्ञान नाशा
ब्रह्मचारिणी तू भुवनेश्वरी
वागेश्वरी हे वाक्येश्वरी………….

ध्यान धरूँ मैं, मान करूँ मैं
चित्त में तेरा , नाम जपूँ मैं
बुद्धि विमल कर , विवेक भर दे
शब्दों को सार दे,वाणी का वर दे
हे भारती माँ, त्रिसंध्येश्वरी
वाक्येश्वरी हे वाक्येश्वरी
मैं मूरख तुम ज्ञानेश्वरी

भवानी सिंह “भूधर”

1 Like · 55 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दृष्टिकोण
दृष्टिकोण
Dhirendra Singh
आतंकवाद सारी हदें पार कर गया है
आतंकवाद सारी हदें पार कर गया है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
जो सोचते हैं अलग दुनिया से,जिनके अलग काम होते हैं,
पूर्वार्थ
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
एक विद्यार्थी जब एक लड़की के तरफ आकर्षित हो जाता है बजाय कित
Rj Anand Prajapati
कृषक
कृषक
साहिल
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
सुन लो दुष्ट पापी अभिमानी
Vishnu Prasad 'panchotiya'
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
वाह मेरा देश किधर जा रहा है!
कृष्ण मलिक अम्बाला
समा गये हो तुम रूह में मेरी
समा गये हो तुम रूह में मेरी
Pramila sultan
गल्प इन किश एण्ड मिश
गल्प इन किश एण्ड मिश
प्रेमदास वसु सुरेखा
घर के आंगन में
घर के आंगन में
Shivkumar Bilagrami
*बीमारी न छुपाओ*
*बीमारी न छुपाओ*
Dushyant Kumar
23/98.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/98.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*गठरी बाँध मुसाफिर तेरी, मंजिल कब आ जाए  ( गीत )*
*गठरी बाँध मुसाफिर तेरी, मंजिल कब आ जाए ( गीत )*
Ravi Prakash
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
Manisha Manjari
प्रेम.....
प्रेम.....
हिमांशु Kulshrestha
पुष्प और तितलियाँ
पुष्प और तितलियाँ
Ritu Asooja
इंसान भीतर से यदि रिक्त हो
इंसान भीतर से यदि रिक्त हो
ruby kumari
Lonely is just a word which can't make you so,
Lonely is just a word which can't make you so,
Sukoon
चाय की दुकान पर
चाय की दुकान पर
gurudeenverma198
*SPLIT VISION*
*SPLIT VISION*
Poonam Matia
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
कर्मों से ही होती है पहचान इंसान की,
शेखर सिंह
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
इत्तिफ़ाक़न मिला नहीं होता।
सत्य कुमार प्रेमी
"असल बीमारी"
Dr. Kishan tandon kranti
■ सकारात्मक तिथि विश्लेषण।।
■ सकारात्मक तिथि विश्लेषण।।
*Author प्रणय प्रभात*
शहीद की अंतिम यात्रा
शहीद की अंतिम यात्रा
Nishant Kumar Mishra
मै शहर में गाँव खोजता रह गया   ।
मै शहर में गाँव खोजता रह गया ।
CA Amit Kumar
दोहा
दोहा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
इश्क़ जब बेहिसाब होता है
इश्क़ जब बेहिसाब होता है
SHAMA PARVEEN
ना मानी हार
ना मानी हार
Dr. Meenakshi Sharma
जाड़ा
जाड़ा
नूरफातिमा खातून नूरी
Loading...