Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Write
Notifications
Wall of Fame
#24 Trending Author
Jun 3, 2016 · 1 min read

माँ तुम ही हो

खड़ा हूँ मैं बुलंदी पर, मगर आधार तुम ही हो
सुनो माँ मेरे जीवन का ,तो पूरा सार तुम ही हो
ख़ुशी में मेरी हँसती हो ग़मों में मेरे रोती तुम
मेरा भगवान तुम ही हो , मेरा संसार तुम ही हो

डॉ अर्चना गुप्ता

277 Views
You may also like:
मेरा वजूद
Anamika Singh
ठोकर तमाम खा के....
अश्क चिरैयाकोटी
देवदूत डॉक्टर
Buddha Prakash
जा बैठे
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हम हैं
Dr.SAGHEER AHMAD SIDDIQUI
कर्ण और दुर्योधन की पहली मुलाकात
AJAY AMITABH SUMAN
स्वेद का, हर कण बताता, है जगत ,आधार तुम से।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
Waqt
ananya rai parashar
गुुल हो गुलशन हो
VINOD KUMAR CHAUHAN
ऐसा मैं सोचता हूँ
gurudeenverma198
शायद मैं गलत हूँ...
मनोज कर्ण
घुतिवान- ए- मनुज
AMRESH KUMAR VERMA
फूल और कली के बीच का संवाद (हास्य व्यंग्य)
Anamika Singh
छोड़ दिए संस्कार पिता के, कुर्सी के पीछे दौड़ रहे
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बाबा भैरण के जनैत छी ?
श्रीहर्ष आचार्य
✍️कधी कधी✍️
"अशांत" शेखर
एकाकीपन
Rekha Drolia
करते रहो सितम।
Taj Mohammad
The Survior
श्याम सिंह बिष्ट
जाने कैसी कैद
Saraswati Bajpai
योग करो।
Vijaykumar Gundal
"साहिल"
Dr. Alpa H. Amin
हे परम पिता परमेश्वर, जग को बनाने वाले
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मन
शेख़ जाफ़र खान
जिन्दगी मे कोहरा
Anamika Singh
*अध्यात्म ज्योति :* अंक 1 ,वर्ष 55, प्रयागराज जनवरी -...
Ravi Prakash
*भक्त प्रहलाद और नरसिंह भगवान के अवतार की कथा*
Ravi Prakash
जैवविविधता नहीं मिटाओ, बन्धु अब तो होश में आओ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
आदमी की आवाज हैं नागार्जुन
Ravi Prakash
# स्त्रियां ...
Chinta netam " मन "
Loading...