Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Apr 2024 · 1 min read

महबूबा से

तुमने जो मुझको दूर किया
वह नुकसान तुम्हारा था
जिस दिल को चकनाचूर किया
वह मकान तुम्हारा था…
(१)
मुझे अपने लिए कोई ग़म नहीं
अफ़सोस है तो बस तुम्हारे लिए
जान का तोहफ़ा लाने वाला
मैं मेहमान तुम्हारा था…
(२)
यहां लोग तो चाहा करते हैं
इज़्ज़त-दौलत-शोहरत-ताकत
लेकिन मुझे किसी भी क़ीमत पर
एक अरमान तुम्हारा था…
(३)
क़िस्मत या दुनिया हरगिज़ नहीं
तुम ख़ुद ही अपनी दुश्मन बनी
दफा हो जाओ मेरी नज़रों से
यह फ़रमान तुम्हारा था…
#geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#रोमांटिक_रिबेल #युवा #प्रेमी
#love #romanticsong
#sadsongs #breakup
#सैड_सांग #जुदाई #याद #दर्द

Language: Hindi
Tag: गीत
25 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
*अगवा कर लिया है सूरज को बादलों ने...,*
AVINASH (Avi...) MEHRA
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
ये वक्त कुछ ठहर सा गया
Ray's Gupta
हद
हद
Ajay Mishra
#क्षमा_वीरस्य_भूषणम
#क्षमा_वीरस्य_भूषणम
*Author प्रणय प्रभात*
दिल में हमारे
दिल में हमारे
Dr fauzia Naseem shad
मिली पात्रता से अधिक, पचे नहीं सौगात।
मिली पात्रता से अधिक, पचे नहीं सौगात।
डॉ.सीमा अग्रवाल
तेरे दिल में मेरे लिए जगह खाली है क्या,
तेरे दिल में मेरे लिए जगह खाली है क्या,
Vishal babu (vishu)
यादों की शमा जलती है,
यादों की शमा जलती है,
Pushpraj Anant
"When the storms of life come crashing down, we cannot contr
Manisha Manjari
नव वर्ष का आगाज़
नव वर्ष का आगाज़
Vandna Thakur
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
स्वर्गस्थ रूह सपनें में कहती
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बात जो दिल में है
बात जो दिल में है
Shivkumar Bilagrami
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
कभी लगते थे, तेरे आवाज़ बहुत अच्छे
Anand Kumar
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
सफलता यूं ही नहीं मिल जाती है।
नेताम आर सी
सहज है क्या _
सहज है क्या _
Aradhya Raj
फूल और कांटे
फूल और कांटे
अखिलेश 'अखिल'
बिन चाहे गले का हार क्यों बनना
बिन चाहे गले का हार क्यों बनना
Keshav kishor Kumar
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
सफलता का महत्व समझाने को असफलता छलती।
Neelam Sharma
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
कान्हा तेरी नगरी, आए पुजारी तेरे
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मैं प्रगति पर हूँ ( मेरी विडम्बना )
मैं प्रगति पर हूँ ( मेरी विडम्बना )
VINOD CHAUHAN
हमारी सम्पूर्ण ज़िंदगी एक संघर्ष होती है, जिसमे क़दम-क़दम पर
हमारी सम्पूर्ण ज़िंदगी एक संघर्ष होती है, जिसमे क़दम-क़दम पर
SPK Sachin Lodhi
हिन्दी दोहा -भेद
हिन्दी दोहा -भेद
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
अनिल
अनिल "आदर्श "
अनिल "आदर्श"
नदियों का एहसान
नदियों का एहसान
RAKESH RAKESH
पापा आपकी बहुत याद आती है
पापा आपकी बहुत याद आती है
Kuldeep mishra (KD)
2497.पूर्णिका
2497.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं  तो भूल  न  पाऊंगा।
मुझे भुला दो बेशक लेकिन,मैं तो भूल न पाऊंगा।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
फ़ुर्सत में अगर दिल ही जला देते तो शायद
Aadarsh Dubey
"बल और बुद्धि"
Dr. Kishan tandon kranti
रे ! मेरे मन-मीत !!
रे ! मेरे मन-मीत !!
Ramswaroop Dinkar
Loading...