Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2023 · 1 min read

“महंगाई”

“महंगाई”
महंगाई का दामन पकड़े भूख सिसक के रोती हैं।
चांद का टुकड़ा रोटी है, दाल का दाना मोती है।
बनिए का पर्चा पर्वत से ज्यादा भारी लगता है।
वह गृहस्थी का मेरी मां ना जाने कैसे ढोती है।
जीवन के नभ तम छा जाता महंगाई के मौसम में।
सूरत जैसी एक अठन्नी बटुए में खोटी है।
इस साजिश में और है शामिल यह कह देना ठीक नहीं।
महंगाई का बीज अकेले किस्मत बोती है।
सर पर रख आशा का छप्पर आंखों में उम्मीद जगाता है।
कम होगी महंगाई कह कर दिल्ली चैन से सोती है।
उनकी जादू भरे आंकड़े मत जाना नजदीक कभी, चेहरे पर निर्धन के हर चीज की कीमत होती हैं।
✍️श्लोक”उमंग”✍️

1 Like · 135 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
ओ मेरी सोलमेट जन्मों से - संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
मुझे फ़र्क नहीं दिखता, ख़ुदा और मोहब्बत में ।
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
विषय:गुलाब
विषय:गुलाब
Harminder Kaur
#जवाब जिंदगी का#
#जवाब जिंदगी का#
Ram Babu Mandal
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
लबो पे तबस्सुम निगाहों में बिजली,
Vishal babu (vishu)
भूतल अम्बर अम्बु में, सदा आपका वास।🙏
भूतल अम्बर अम्बु में, सदा आपका वास।🙏
संजीव शुक्ल 'सचिन'
प्यार समंदर
प्यार समंदर
Ramswaroop Dinkar
नर जीवन
नर जीवन
नवीन जोशी 'नवल'
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
मेहनत के दिन हमको , बड़े याद आते हैं !
Kuldeep mishra (KD)
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
घर-घर ओमप्रकाश वाल्मीकि (स्मारिका)
Dr. Narendra Valmiki
तुम बिन जीना सीख लिया
तुम बिन जीना सीख लिया
Arti Bhadauria
उसको फिर उससा
उसको फिर उससा
Dr fauzia Naseem shad
है अभी भी वक़्त प्यारे, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच
है अभी भी वक़्त प्यारे, मैं भी सोचूंँ तू भी सोच
Sarfaraz Ahmed Aasee
दरमियाँ
दरमियाँ
Dr. Rajeev Jain
ईश्वर का जाल और मनुष्य
ईश्वर का जाल और मनुष्य
Dr MusafiR BaithA
चोला रंग बसंती
चोला रंग बसंती
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
विविध विषय आधारित कुंडलियां
विविध विषय आधारित कुंडलियां
नाथ सोनांचली
■ मी एसीपी प्रद्युम्न बोलतोय 😊😊😊
■ मी एसीपी प्रद्युम्न बोलतोय 😊😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
रूप जिसका आयतन है, नेत्र जिसका लोक है
रूप जिसका आयतन है, नेत्र जिसका लोक है
महेश चन्द्र त्रिपाठी
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
विनाश की जड़ 'क्रोध' ।
Buddha Prakash
यादें .....…......मेरा प्यारा गांव
यादें .....…......मेरा प्यारा गांव
Neeraj Agarwal
तब तो मेरा जीवनसाथी हो सकती हो तुम
तब तो मेरा जीवनसाथी हो सकती हो तुम
gurudeenverma198
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
महज़ एक गुफ़्तगू से.,
Shubham Pandey (S P)
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
जीवन सूत्र (#नेपाली_लघुकथा)
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
बुराइयां हैं बहुत आदमी के साथ
Shivkumar Bilagrami
"मेरे किसान बंधु चौकड़िया'
Ms.Ankit Halke jha
18, गरीब कौन
18, गरीब कौन
Dr Shweta sood
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
उसे मैं भूल जाऊंगा, ये मैं होने नहीं दूंगा।
सत्य कुमार प्रेमी
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
आकलन करने को चाहिए सही तंत्र
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
Loading...