Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2023 · 1 min read

महंगाई का दंश

रंग, अबीर और गुलाल
सब पर महंगाई का दंश
जनता में दिखता नहीं कहीं
होली पर्व का खास उमंग
गुझिया और नमकीन के भी
काफी ऊंचे हो गए हैं दाम
घर घर का आम बजट भी
अब हो गया बिल्कुल धड़ाम
पूंजीपतियों के होकर रह गए
देश के सभी पर्व और त्यौहार
आम आदमी की झोली में बचे
हैं सिर्फ़ विवशता और इंतजार
हे ईश्वर इस देश के कर्णधारों
को दीजिए सन्मति का दान
सत्तामद से परे हट वो कर सकें
जनता का समुचित कल्याण

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 213 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
!! दूर रहकर भी !!
!! दूर रहकर भी !!
Chunnu Lal Gupta
मययस्सर रात है रोशन
मययस्सर रात है रोशन
कवि दीपक बवेजा
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
जिंदगी में पराया कोई नहीं होता,
नेताम आर सी
अरे...
अरे...
पूर्वार्थ
दशमेश पिता, गोविंद गुरु
दशमेश पिता, गोविंद गुरु
Satish Srijan
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
आविष्कार एक स्वर्णिम अवसर की तलाश है।
Rj Anand Prajapati
मन के भाव
मन के भाव
Surya Barman
जिंदगी मुझसे हिसाब मांगती है ,
जिंदगी मुझसे हिसाब मांगती है ,
Shyam Sundar Subramanian
#लाश_पर_अभिलाष_की_बंसी_सुखद_कैसे_बजाएं?
#लाश_पर_अभिलाष_की_बंसी_सुखद_कैसे_बजाएं?
संजीव शुक्ल 'सचिन'
अच्छा लगने लगा है उसे
अच्छा लगने लगा है उसे
Vijay Nayak
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
तिरे रूह को पाने की तश्नगी नहीं है मुझे,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
3066.*पूर्णिका*
3066.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
गीतिका
गीतिका
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
‘1857 के विद्रोह’ की नायिका रानी लक्ष्मीबाई
कवि रमेशराज
सद्विचार
सद्विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
विधाता छंद
विधाता छंद
डॉ.सीमा अग्रवाल
कांग्रेस की आत्महत्या
कांग्रेस की आत्महत्या
Sanjay ' शून्य'
"कामयाबी"
Dr. Kishan tandon kranti
चलो प्रिये तुमको मैं संगीत के क्षण ले चलूं....!
चलो प्रिये तुमको मैं संगीत के क्षण ले चलूं....!
singh kunwar sarvendra vikram
आन-बान-शान हमारी हिंदी भाषा
आन-बान-शान हमारी हिंदी भाषा
Raju Gajbhiye
*नई राह पर नए कदम, लेकर चलने की चाह हो (हिंदी गजल)*
*नई राह पर नए कदम, लेकर चलने की चाह हो (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
""मेरे गुरु की ही कृपा है कि_
Rajesh vyas
***संशय***
***संशय***
प्रेमदास वसु सुरेखा
बिन फले तो
बिन फले तो
surenderpal vaidya
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
राष्ट्र निर्माता शिक्षक
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
घनाक्षरी छंदों के नाम , विधान ,सउदाहरण
Subhash Singhai
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
बिखरे खुद को, जब भी समेट कर रखा, खुद के ताबूत से हीं, खुद को गवां कर गए।
Manisha Manjari
चंद्रयान
चंद्रयान
Mukesh Kumar Sonkar
दोहे- अनुराग
दोहे- अनुराग
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
Loading...