Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2021 · 1 min read

मसखरी के लिए

ऐ जिंदगी क्या मैं ही मिला हूँ मसखरी के लिए?
मुझे मुझसे अलग न कर मेरी बेहतरी के लिए।
-सिद्धार्थ गोरखपुरी

Language: Hindi
Tag: शेर
2 Likes · 317 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
“गणतंत्र दिवस”
“गणतंत्र दिवस”
पंकज कुमार कर्ण
What if...
What if...
R. H. SRIDEVI
आदि ब्रह्म है राम
आदि ब्रह्म है राम
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
#महाभारत
#महाभारत
*प्रणय प्रभात*
लौ
लौ
Dr. Seema Varma
गमे दर्द नगमे
गमे दर्द नगमे
Monika Yadav (Rachina)
दादा का लगाया नींबू पेड़ / Musafir Baitha
दादा का लगाया नींबू पेड़ / Musafir Baitha
Dr MusafiR BaithA
किसी का खौफ नहीं, मन में..
किसी का खौफ नहीं, मन में..
अरशद रसूल बदायूंनी
इक शे'र
इक शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
वक्त का सिलसिला बना परिंदा
Ravi Shukla
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
कोरोना संक्रमण
कोरोना संक्रमण
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मारुति मं बालम जी मनैं
मारुति मं बालम जी मनैं
gurudeenverma198
कहाँ है!
कहाँ है!
Neelam Sharma
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
फर्ज़ अदायगी (मार्मिक कहानी)
Dr. Kishan Karigar
फायदे का सौदा
फायदे का सौदा
ओनिका सेतिया 'अनु '
कहा किसी ने आ मिलो तो वक्त ही नही मिला।।
कहा किसी ने आ मिलो तो वक्त ही नही मिला।।
पूर्वार्थ
ज़िंदगी नही॔ होती
ज़िंदगी नही॔ होती
Dr fauzia Naseem shad
ज़िन्दगी में अच्छे लोगों की तलाश मत करो,
ज़िन्दगी में अच्छे लोगों की तलाश मत करो,
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
डारा-मिरी
डारा-मिरी
Dr. Kishan tandon kranti
दवाखाना  से अब कुछ भी नहीं होता मालिक....
दवाखाना से अब कुछ भी नहीं होता मालिक....
सिद्धार्थ गोरखपुरी
2608.पूर्णिका
2608.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
फ़लसफ़ा है जिंदगी का मुस्कुराते जाना।
Manisha Manjari
मशाल
मशाल
नेताम आर सी
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
*नंगा चालीसा* #रमेशराज
कवि रमेशराज
बुद्ध पूर्णिमा
बुद्ध पूर्णिमा
Dr.Pratibha Prakash
तुम गए कहाँ हो 
तुम गए कहाँ हो 
Amrita Shukla
वार्तालाप अगर चांदी है
वार्तालाप अगर चांदी है
Pankaj Sen
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
कौन पढ़ता है मेरी लम्बी -लम्बी लेखों को ?..कितनों ने तो अपनी
DrLakshman Jha Parimal
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
हँसकर आँसू छुपा लेती हूँ
Indu Singh
Loading...