Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Aug 2023 · 1 min read

मन है एक बादल सा मित्र हैं हवाऐं

मन है एक बादल सा मित्र हैं हवाऐं
साथ चल मित्र के कहीं दूर जा छाऐं ।

355 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल-दर्द पुराने निकले
ग़ज़ल-दर्द पुराने निकले
Shyam Vashishtha 'शाहिद'
रग रग में देशभक्ति
रग रग में देशभक्ति
भरत कुमार सोलंकी
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
रविदासाय विद् महे, काशी बासाय धी महि।
गुमनाम 'बाबा'
हार मानूंगा नही।
हार मानूंगा नही।
Rj Anand Prajapati
कसास दो उस दर्द का......
कसास दो उस दर्द का......
shabina. Naaz
🙅आज की बात🙅
🙅आज की बात🙅
*Author प्रणय प्रभात*
बहना तू सबला हो🙏
बहना तू सबला हो🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बम भोले।
बम भोले।
Anil Mishra Prahari
सुस्ता लीजिये थोड़ा
सुस्ता लीजिये थोड़ा
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
विवेकवान मशीन
विवेकवान मशीन
Sandeep Pande
"सियार"
Dr. Kishan tandon kranti
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
श्रेय एवं प्रेय मार्ग
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
वैज्ञानिक युग और धर्म का बोलबाला/ आनंद प्रवीण
वैज्ञानिक युग और धर्म का बोलबाला/ आनंद प्रवीण
आनंद प्रवीण
गुम है सरकारी बजट,
गुम है सरकारी बजट,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
रंगों में भी
रंगों में भी
हिमांशु Kulshrestha
आँखें
आँखें
लक्ष्मी सिंह
कृषक की उपज
कृषक की उपज
Praveen Sain
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
एक औरत रेशमी लिबास और गहनों में इतनी सुंदर नहीं दिखती जितनी
Annu Gurjar
तरक्की से तकलीफ
तरक्की से तकलीफ
शेखर सिंह
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
हर एक सब का हिसाब कोंन रक्खे...
कवि दीपक बवेजा
सेज सजायी मीत की,
सेज सजायी मीत की,
sushil sarna
मां
मां
Manu Vashistha
मेरी ख़्वाहिश ने
मेरी ख़्वाहिश ने
Dr fauzia Naseem shad
प्यार जताना नहीं आता ...
प्यार जताना नहीं आता ...
MEENU
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
मेरे दिल से उसकी हर गलती माफ़ हो जाती है,
Vishal babu (vishu)
निशाना
निशाना
अखिलेश 'अखिल'
मूरत
मूरत
कविता झा ‘गीत’
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
जब याद सताएगी,मुझको तड़पाएगी
कृष्णकांत गुर्जर
लालच का फल
लालच का फल
Dr. Pradeep Kumar Sharma
(15)
(15) " वित्तं शरणं " भज ले भैया !
Kishore Nigam
Loading...