Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Nov 2023 · 1 min read

मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।

मन ही मन में मुस्कुराता कौन है।
गीत सुन्दर गुनगुनाता कौन है।
इन्द्रधनुषी रंग की मनहर छटाएं।
नित्य कुदरत में सजाता कौन है।
~~~~~~~~~~
-सुरेन्द्रपाल वैद्य, ३०/११/२०२३

2 Likes · 2 Comments · 228 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from surenderpal vaidya
View all
You may also like:
तुझसे मिलने के बाद ❤️
तुझसे मिलने के बाद ❤️
Skanda Joshi
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
श्रीराम गिलहरी संवाद अष्टपदी
SHAILESH MOHAN
दोस्ती गहरी रही
दोस्ती गहरी रही
Rashmi Sanjay
पल भर तमाशों के बीच ज़िंदगी गुजर रही है,
पल भर तमाशों के बीच ज़िंदगी गुजर रही है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
कर सत्य की खोज
कर सत्य की खोज
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
हंसी आ रही है मुझे,अब खुद की बेबसी पर
Pramila sultan
दर्द की धुन
दर्द की धुन
Sangeeta Beniwal
दहेज ना लेंगे
दहेज ना लेंगे
भरत कुमार सोलंकी
राष्ट्र हित में मतदान
राष्ट्र हित में मतदान
लक्ष्मी वर्मा प्रतीक्षा
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
मुझे छूकर मौत करीब से गुजरी है...
राहुल रायकवार जज़्बाती
"स्वप्न".........
Kailash singh
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
वासना है तुम्हारी नजर ही में तो मैं क्या क्या ढकूं,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
सफलता
सफलता
Paras Nath Jha
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
”ज़िन्दगी छोटी नहीं होती
शेखर सिंह
बाज़ार से कोई भी चीज़
बाज़ार से कोई भी चीज़
*प्रणय प्रभात*
संत गुरु नानक देवजी का हिंदी साहित्य में योगदान
संत गुरु नानक देवजी का हिंदी साहित्य में योगदान
Indu Singh
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
*आओ मिलकर नया साल मनाएं*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
बाबागिरी
बाबागिरी
Dr. Pradeep Kumar Sharma
मउगी चला देले कुछउ उठा के
मउगी चला देले कुछउ उठा के
आकाश महेशपुरी
वक्त
वक्त
Madhavi Srivastava
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
जिनका हम जिक्र तक नहीं करते हैं
ruby kumari
जिंदगी की खोज
जिंदगी की खोज
CA Amit Kumar
गणतंत्र दिवस
गणतंत्र दिवस
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
*कुछ पुरातन और थोड़ा, आधुनिक गठजोड़ है (हिंदी गजल)*
*कुछ पुरातन और थोड़ा, आधुनिक गठजोड़ है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
यूं ही हमारी दोस्ती का सिलसिला रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
2830. *पूर्णिका*
2830. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन से हरो दर्प औ अभिमान
मन से हरो दर्प औ अभिमान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
मुक्तक –  अंत ही आरंभ है
मुक्तक – अंत ही आरंभ है
Sonam Puneet Dubey
छल छल छलके आँख से,
छल छल छलके आँख से,
sushil sarna
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
साहित्य में साहस और तर्क का संचार करने वाले लेखक हैं मुसाफ़िर बैठा : ARTICLE – डॉ. कार्तिक चौधरी
Dr MusafiR BaithA
Loading...