Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
24 Oct 2023 · 1 min read

मन से हरो दर्प औ अभिमान

पग पग पर रावण खड़ा
करता विकट अट्टहास
प्रभु श्रीराम भी चकित हैं
सृष्टि का कैसा ये विकास
भौतिक संसाधनों के पीछे
दीवाने पूरे भारत के लोग
धन संग्रहण के लिए सतत
कर रहे वो मनमाने प्रयोग
अधिकांश के मानस से लुप्त
हुआ ममता,करुणा का भाव
चारों तरफ प्रभावी दिखता
प्रभुता के प्रदर्शन का चाव
दिनोंदिन बढ़ता ही जा रहा
है रावण कुटुंब का आकार
ऐसे में कैसे जीवित रहेगा
जग में सत्य और सदाचार
हे प्रभु मेरे देश के लोगों के
मन से हरो दर्प औ अभिमान
मानवता के मर्म को समझ के
बन सकें वो एक अच्छा इंसान

Language: Hindi
2 Likes · 85 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मां बाप
मां बाप
Mukesh Kumar Sonkar
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
कुदरत
कुदरत
manisha
गुरु
गुरु
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
21वीं सदी और भारतीय युवा
21वीं सदी और भारतीय युवा
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
वो जाने क्या कलाई पर कभी बांधा नहीं है।
सत्य कुमार प्रेमी
ग़ज़ल/नज़्म - वो ही वैलेंटाइन डे था
ग़ज़ल/नज़्म - वो ही वैलेंटाइन डे था
अनिल कुमार
I lose myself in your love,
I lose myself in your love,
Shweta Chanda
बिन परखे जो बेटे को हीरा कह देती है
बिन परखे जो बेटे को हीरा कह देती है
Shweta Soni
लिख दूं
लिख दूं
Vivek saswat Shukla
#Om
#Om
Ankita Patel
दर्द अपना संवार
दर्द अपना संवार
Dr fauzia Naseem shad
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
अपने कदमों को बढ़ाती हूँ तो जल जाती हूँ
SHAMA PARVEEN
हाँ मैं किन्नर हूँ…
हाँ मैं किन्नर हूँ…
Anand Kumar
मा ममता का सागर
मा ममता का सागर
भरत कुमार सोलंकी
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
हे गुरुवर तुम सन्मति मेरी,
Kailash singh
बिना शर्त खुशी
बिना शर्त खुशी
Rohit yadav
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
शक्ति की देवी दुर्गे माँ
Satish Srijan
2407.पूर्णिका
2407.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
"लोकतंत्र के मंदिर" में
*प्रणय प्रभात*
*नगर अयोध्या ने अपना फिर, वैभव शुचि साकार कर लिया(हिंदी गजल)
*नगर अयोध्या ने अपना फिर, वैभव शुचि साकार कर लिया(हिंदी गजल)
Ravi Prakash
भाव तब होता प्रखर है
भाव तब होता प्रखर है
Dr. Meenakshi Sharma
*जिंदगी के  हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
*जिंदगी के हाथो वफ़ा मजबूर हुई*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
उम्र के इस पडाव
उम्र के इस पडाव
Bodhisatva kastooriya
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
राहों में उनके कांटे बिछा दिए
Tushar Singh
दोस्ती
दोस्ती
Shashi Dhar Kumar
"New year की बधाई "
Yogendra Chaturwedi
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
शर्तों मे रह के इश्क़ करने से बेहतर है,
पूर्वार्थ
Loading...