Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
2 Dec 2023 · 1 min read

मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं

मन से उतरे लोग दाग धब्बों की तरह होते हैं
हाथो से उतरती हुई मेंहदी की तरह होते हैं
इनका पूरी तरह से मिट जाना ही
बेहतर है।।

Ruby kumari

1 Like · 170 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
G27
G27
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
" यादें "
Dr. Kishan tandon kranti
मुस्कुराना सीख लिया !|
मुस्कुराना सीख लिया !|
पूर्वार्थ
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
इतनी भी तकलीफ ना दो हमें ....
Umender kumar
दर-बदर की ठोकरें जिन्को दिखातीं राह हैं
दर-बदर की ठोकरें जिन्को दिखातीं राह हैं
Manoj Mahato
ख्वाहिशों की ज़िंदगी है।
ख्वाहिशों की ज़िंदगी है।
Taj Mohammad
दिल से ….
दिल से ….
Rekha Drolia
शु'आ - ए- उम्मीद
शु'आ - ए- उम्मीद
Shyam Sundar Subramanian
आज का चयनित छंद
आज का चयनित छंद"रोला"अर्ध सम मात्रिक
rekha mohan
*अज्ञानी की कलम*
*अज्ञानी की कलम*
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी
मुस्कान
मुस्कान
Santosh Shrivastava
बिखरा ख़ज़ाना
बिखरा ख़ज़ाना
Amrita Shukla
((((((  (धूप ठंढी मे मुझे बहुत पसंद है))))))))
(((((( (धूप ठंढी मे मुझे बहुत पसंद है))))))))
Rituraj shivem verma
2573.पूर्णिका
2573.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
अनचाहे अपराध व प्रायश्चित
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
लोग आपके प्रसंसक है ये आपकी योग्यता है
लोग आपके प्रसंसक है ये आपकी योग्यता है
Ranjeet kumar patre
सागर की लहरों
सागर की लहरों
krishna waghmare , कवि,लेखक,पेंटर
#व्यंग्य_कविता :-
#व्यंग्य_कविता :-
*प्रणय प्रभात*
यादों का थैला लेकर चले है
यादों का थैला लेकर चले है
Harminder Kaur
मिलेंगे इक रोज तसल्ली से हम दोनों
मिलेंगे इक रोज तसल्ली से हम दोनों
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
हृदय कुंज  में अवतरित, हुई पिया की याद।
हृदय कुंज में अवतरित, हुई पिया की याद।
sushil sarna
आईना
आईना
Sûrëkhâ
ख्याल (कविता)
ख्याल (कविता)
Monika Yadav (Rachina)
* मुक्तक *
* मुक्तक *
surenderpal vaidya
डर डर के उड़ रहे पंछी
डर डर के उड़ रहे पंछी
डॉ. शिव लहरी
वक्त और रिश्ते
वक्त और रिश्ते
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
" लहर लहर लहराई तिरंगा "
Chunnu Lal Gupta
मुक्तक
मुक्तक
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
गणतंत्रता दिवस
गणतंत्रता दिवस
Surya Barman
झोली मेरी प्रेम की
झोली मेरी प्रेम की
Sandeep Pande
Loading...