Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 Nov 2023 · 1 min read

मन में उतर कर मन से उतर गए

मन में उतर कर मन से उतर गए
कुछ लोग जिंदगी का हिस्सा थे
अब खबर नहीं
किधर गए…
वो आए थे बसंत देखकर
पतझड़ जब देखा
तो डर गए…
फिर सूखे तिनको की तरह
हवा में हवा हो गए…
अब फर्क नहीं पड़ता है उड़ कर
किधर गए….
इधर गए उधर गए या मर गए
Ruby kumari

1 Like · 202 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
दो किसान मित्र थे साथ रहते थे साथ खाते थे साथ पीते थे सुख दु
कृष्णकांत गुर्जर
*मतदान*
*मतदान*
Shashi kala vyas
समझौता
समझौता
Dr.Priya Soni Khare
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
surenderpal vaidya
बसंत का आगम क्या कहिए...
बसंत का आगम क्या कहिए...
डॉ.सीमा अग्रवाल
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
कितना ज्ञान भरा हो अंदर
Vindhya Prakash Mishra
पानी जैसा बनो रे मानव
पानी जैसा बनो रे मानव
Neelam Sharma
पिंजरे के पंछी को उड़ने दो
पिंजरे के पंछी को उड़ने दो
Dr Nisha nandini Bhartiya
लड़कियां शिक्षा के मामले में लडको से आगे निकल रही है क्योंकि
लड़कियां शिक्षा के मामले में लडको से आगे निकल रही है क्योंकि
Rj Anand Prajapati
वर दो हमें हे शारदा, हो  सर्वदा  शुभ  भावना    (सरस्वती वंदन
वर दो हमें हे शारदा, हो सर्वदा शुभ भावना (सरस्वती वंदन
Ravi Prakash
17रिश्तें
17रिश्तें
Dr Shweta sood
वक़्त गुज़रे तो
वक़्त गुज़रे तो
Dr fauzia Naseem shad
अहिल्या
अहिल्या
अनूप अम्बर
बड़ा मन करऽता।
बड़ा मन करऽता।
जय लगन कुमार हैप्पी
*राज सारे दरमियाँ आज खोलूँ*
*राज सारे दरमियाँ आज खोलूँ*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
💐प्रेम कौतुक-363💐
💐प्रेम कौतुक-363💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
प्यार की भाषा
प्यार की भाषा
Surinder blackpen
अपने वीर जवान
अपने वीर जवान
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
जिंदगी और उलझनें, सॅंग सॅंग चलेंगी दोस्तों।
जिंदगी और उलझनें, सॅंग सॅंग चलेंगी दोस्तों।
सत्य कुमार प्रेमी
कानून लचर हो जहाँ,
कानून लचर हो जहाँ,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
अधूरी मुलाकात
अधूरी मुलाकात
Neeraj Agarwal
What is FAMILY?
What is FAMILY?
पूर्वार्थ
23/107.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/107.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक तरफ
एक तरफ
*Author प्रणय प्रभात*
दो शे'र
दो शे'र
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
क्यों नहीं देती हो तुम, साफ जवाब मुझको
क्यों नहीं देती हो तुम, साफ जवाब मुझको
gurudeenverma198
says wrong to wrong
says wrong to wrong
Satish Srijan
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
उठो पथिक थक कर हार ना मानो
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
सितमज़रीफ़ी
सितमज़रीफ़ी
Atul "Krishn"
Loading...