Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
27 May 2016 · 1 min read

मन की अपने देखिये

मन की अपने देखिये , घोड़े जैसी चाल
पंछी जैसे पर लिए, करता खूब धमाल
करता खूब धमाल, साथ सपनों के रहता
वो जाएँ जिस ओर, दिशा में उनकी बहता
कभी अर्चना साथ , न देता जब इसका तन
लगती गहरी चोट ,बुझा रहता फिर ये मन

डॉ अर्चना गुप्ता
मुरादाबाद(उ प्र)

190 Views
You may also like:
तुम ना आए....
डॉ.सीमा अग्रवाल
पिता
Dr.Priya Soni Khare
लबों से मुस्करा देते है।
Taj Mohammad
*"खुद को तलाशिये"*
Shashi kala vyas
गृहणी का बुद्धत्व
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
"मत कर तू पैसा पैसा"
Dr Meenu Poonia
जवाब दो
shabina. Naaz
बहुत बुरा लगेगा दोस्त
gurudeenverma198
हरा जगत में फैलता, सिमटे केसर रंग
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
We Would Be Connected Actually
Manisha Manjari
बरसात में साजन और सजनी
Ram Krishan Rastogi
“ अरुणांचल प्रदेशक “ सेला टॉप” “
DrLakshman Jha Parimal
पधारो नाथ मम आलय, सु-स्वागत सङ्ग अभिनन्दन।।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
जात-पात
Shekhar Chandra Mitra
शराफत में इसको मुहब्बत लिखेंगे।
सत्य कुमार प्रेमी
✍️जिंदगी के अस्ल✍️
'अशांत' शेखर
फर्ज अपना-अपना
Prabhudayal Raniwal
कोशिशों में तेरी
Dr fauzia Naseem shad
"पिता की क्षमता"
पंकज कुमार कर्ण
कलम के सिपाही
Pt. Brajesh Kumar Nayak
* फितरत *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
दुनिया की फ़ितरत
Anamika Singh
बुजुर्गो की बात
AMRESH KUMAR VERMA
औरत एक अहिल्या
Kaur Surinder
【8】 *"* आई देखो आई रेल *"*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
इश्क़ में जूतियों का भी रहता है डर
आकाश महेशपुरी
हंँसना तुम सीखो ।
Buddha Prakash
फिर कभी तुम्हें मैं चाहकर देखूंगा.............
Nasib Sabharwal
यत्र नार्यस्तु पूज्यन्ते
Prakash Chandra
*अध्यात्म ज्योति* : वर्ष 53 अंक 1, जनवरी-जून 2020
Ravi Prakash
Loading...