Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
21 Aug 2019 · 1 min read

मनुहार

प्रभु मेहमान बन आओ।
साक घर मेरे भी खाओ।।

विदुर के घर गये थे तुम।
चखे थे बेर सबरी तुम।
अहिल्या तार आये थे।
दैत्य संहार आये थे।

नाथ दुख नाश कर जाओ।
प्रभु मेहमान बन आओ।।

नाथ आतिथ्य स्वीकारो।
विकट भवजाल से तारो।
नहीं कोई सहारा है।
कहाँ दिखता किनारा है।

नाथ पतवार बन जाओ।
प्रभु मेहमान बन आओ।।

द्रौपदी चीर रक्षक तुम।
जगत के पीर भक्षक तुम।
नाथ तेरा सहारा है।
तभी तुझको पुकारा है।

मुझे भी आश दे जाओ।
प्रभु मेहमान बन आओ।।
✍️पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

Language: Hindi
Tag: गीत
1 Like · 216 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
चाय
चाय
Rajeev Dutta
आखिर क्यूं?
आखिर क्यूं?
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
उत्तर नही है
उत्तर नही है
Punam Pande
चाहत मोहब्बत और प्रेम न शब्द समझे.....
चाहत मोहब्बत और प्रेम न शब्द समझे.....
Neeraj Agarwal
विद्याधन
विद्याधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
*खुशी मनाती आज अयोध्या, रामलला के आने की (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
*
*"शिव आराधना"*
Shashi kala vyas
अंधा वो नहीं होता है
अंधा वो नहीं होता है
ओंकार मिश्र
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
गैरों से क्या गिला करूं है अपनों से गिला
Ajad Mandori
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
बह्र 2122 1122 1122 22 अरकान-फ़ाईलातुन फ़यलातुन फ़यलातुन फ़ेलुन काफ़िया - अर रदीफ़ - की ख़ुशबू
Neelam Sharma
“चिट्ठी ना कोई संदेश”
“चिट्ठी ना कोई संदेश”
DrLakshman Jha Parimal
कौन हूँ मैं ?
कौन हूँ मैं ?
पूनम झा 'प्रथमा'
"आंखरी ख़त"
Lohit Tamta
Gazal
Gazal
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
" क्यूँ "
Dr. Kishan tandon kranti
2616.पूर्णिका
2616.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
सब कुछ छोड़ कर जाना पड़ा अकेले में
कवि दीपक बवेजा
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
हम ऐसी मौहब्बत हजार बार करेंगे।
Phool gufran
शांत मन को
शांत मन को
Dr fauzia Naseem shad
अच्छे नहीं है लोग ऐसे जो
अच्छे नहीं है लोग ऐसे जो
gurudeenverma198
जमाना खराब हैं....
जमाना खराब हैं....
Dr. Akhilesh Baghel "Akhil"
प्रार्थना के स्वर
प्रार्थना के स्वर
Suryakant Dwivedi
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
UPSC-MPPSC प्री परीक्षा: अंतिम क्षणों का उत्साह
पूर्वार्थ
एक बिहारी सब पर भारी!!!
एक बिहारी सब पर भारी!!!
Dr MusafiR BaithA
मां तुम्हें आता है ,
मां तुम्हें आता है ,
Manju sagar
काश तु मेरे साथ खड़ा होता
काश तु मेरे साथ खड़ा होता
Gouri tiwari
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
रमेशराज के कुण्डलिया छंद
कवि रमेशराज
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
एक महिला से तीन तरह के संबंध रखे जाते है - रिश्तेदार, खुद के
Rj Anand Prajapati
जलते हुए चूल्हों को कब तक अकेले देखेंगे हम,
जलते हुए चूल्हों को कब तक अकेले देखेंगे हम,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
🌷 सावन तभी सुहावन लागे 🌷
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
Loading...