Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Aug 2023 · 1 min read

*मनुष्य शरीर*

*पुरुष का वह शरीर कहा गया है इससे बढ़कर अशुद्ध ,पराधीन ,दुखमय और अस्थिर दूसरी कोई वस्तु नहीं है।शरीर ही सब विपत्तियों का मूल कारण है उससे युक्त हुआ पुरुष अपने कर्म के अनुसार सुखी दुःखी और मूढ़ होता है।जैसे पानी से सींचा हुआ खेत अंकुर उत्पन्न करता है,उसी प्रकार अज्ञान से आप्लावित हुआ कर्म नूतन शरीर को जन्म देता है।ये शरीर अत्यंत दुखों के आलय माने जाते हैं।इनकी मृत्यु अनिवार्य होती है ।भूतकाल में कितने ही शरीर नष्ट हो गए और भविष्य काल में सहस्त्रों शरीर आने वाले हैं,वे सब आ – आकर जब जीर्ण – शीर्ण हो जाते हैं; तब पुरुष उन्हें छोड़ देता है।कोई भी जीवात्मा किसी भी शरीर में अनंत काल तक रहने का अवसर नहीं पाता । यहां स्त्रियों ,पुत्रों और बंधु बांधवों से जो मिलन होता है,वह पथिकों के समागम के ही समान है।जैसे महासागर में एक काष्ठ कहीं से और दूसरे काष्ठ के साथ कहीं थोड़ी देर के लिए मिल जाते हैं और मिलकर फिर बिछड़ जाते हैं।उसी प्रकार प्राणियों का यह समागम भी संयोग – वियोग से युक्त है। ब्रम्हा जी से लेकर स्थावर प्राणियों तक सभी जीव पशु कहे गए हैं। उन सभी पशुओं के लिए ही यह दृष्टांत या दर्शन शास्त्र कहा गया है ।
यह जीव पाशों में बंधता और सुख दुःख भोगता है,इसलिए “पशु” कहलाता है।यह ईश्वर की लीला का साधन भूत है ,ऐसा ज्ञानी महात्मा कहते हैं।
वायवीय संहिता
शिव पुराण🙏🏼🔔🔱🌹🔔🔱🌹🔔🔱🌹

Language: Hindi
1 Like · 1 Comment · 332 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सृजन
सृजन
Bodhisatva kastooriya
आज के युग में कल की बात
आज के युग में कल की बात
Rituraj shivem verma
सारी तल्ख़ियां गर हम ही से हों तो, बात  ही क्या है,
सारी तल्ख़ियां गर हम ही से हों तो, बात ही क्या है,
Shreedhar
रक्षक या भक्षक
रक्षक या भक्षक
निरंजन कुमार तिलक 'अंकुर'
*अध्याय 12*
*अध्याय 12*
Ravi Prakash
शौक या मजबूरी
शौक या मजबूरी
संजय कुमार संजू
दिल नहीं
दिल नहीं
Dr fauzia Naseem shad
23/31.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/31.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मन का मिलन है रंगों का मेल
मन का मिलन है रंगों का मेल
Ranjeet kumar patre
"प्रीत की डोर”
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
قفس میں جان جائے گی ہماری
قفس میں جان جائے گی ہماری
Simmy Hasan
किए जिन्होंने देश हित
किए जिन्होंने देश हित
महेश चन्द्र त्रिपाठी
कौआ और कोयल (दोस्ती)
कौआ और कोयल (दोस्ती)
VINOD CHAUHAN
* शक्ति है सत्य में *
* शक्ति है सत्य में *
surenderpal vaidya
इंसान भी बड़ी अजीब चीज है।।
इंसान भी बड़ी अजीब चीज है।।
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
दूसरा मौका
दूसरा मौका
हिमांशु बडोनी (दयानिधि)
*कोई नई ना बात है*
*कोई नई ना बात है*
Dushyant Kumar
"व्यवहार"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
तेरी वापसी के सवाल पर, ख़ामोशी भी खामोश हो जाती है।
Manisha Manjari
धर्म निरपेक्षता
धर्म निरपेक्षता
ओनिका सेतिया 'अनु '
कृष्ण जन्म / (नवगीत)
कृष्ण जन्म / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
आज कुछ अजनबी सा अपना वजूद लगता हैं,
Jay Dewangan
गांधी जी का चौथा बंदर
गांधी जी का चौथा बंदर
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
देखिए बिना करवाचौथ के
देखिए बिना करवाचौथ के
शेखर सिंह
हँस लो! आज  दर-ब-दर हैं
हँस लो! आज दर-ब-दर हैं
गुमनाम 'बाबा'
शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
शिक्षा सकेचन है व्यक्तित्व का,पैसा अधिरूप है संरचना का
पूर्वार्थ
बेहद दौलत भरी पड़ी है।
बेहद दौलत भरी पड़ी है।
सत्य कुमार प्रेमी
■ आज की सलाह...
■ आज की सलाह...
*Author प्रणय प्रभात*
गद्दार है वह जिसके दिल में
गद्दार है वह जिसके दिल में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
Loading...