Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Aug 2023 · 1 min read

मनुष्यता कोमा में

मनुष्यता कोमा में
—————–
मॉर्निंग वाक करते हुए गणेशी ने अचानक शंकर जी से पूछा, “पापा, क्या आपको भी ऐसा लगता है कि आगे चलकर मनुष्य जाति का अंत भी ठीक उसी प्रकार से हो जाएगा, जिस प्रकार से डायनासोर का हुआ।”
“बेटा, मनुष्य जाति का अंत कब और कैसे होगा, यह बात निश्चित तौर पर तो अभी नहीं कह सकता, परंतु मनुष्यता अब कोमा की स्थिति में है। मनुष्यता के अंत होने के बाद मनुष्य फिर मनुष्य कहाँ रह जाएगा बेटा।” शंकर जी कहते-कहते बहुत ही भावुक हो गए थे।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

125 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
बेचैन थी लहरें समंदर की अभी तूफ़ान से - मीनाक्षी मासूम
बेचैन थी लहरें समंदर की अभी तूफ़ान से - मीनाक्षी मासूम
Meenakshi Masoom
शून्य ही सत्य
शून्य ही सत्य
Kanchan verma
मेरी  हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
मेरी हर इक शाम उम्मीदों में गुजर जाती है।। की आएंगे किस रोज
★ IPS KAMAL THAKUR ★
तप त्याग समर्पण भाव रखों
तप त्याग समर्पण भाव रखों
Er.Navaneet R Shandily
तप रही जमीन और
तप रही जमीन और
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
मैं और वो
मैं और वो
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
दिन गुजर जाता है ये रात ठहर जाती है
दिन गुजर जाता है ये रात ठहर जाती है
VINOD CHAUHAN
लम्हें संजोऊ , वक्त गुजारु,तेरे जिंदगी में आने से पहले, अपने
लम्हें संजोऊ , वक्त गुजारु,तेरे जिंदगी में आने से पहले, अपने
Dr.sima
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
हज़ार ग़म हैं तुम्हें कौन सा बताएं हम
Dr Archana Gupta
मैं किताब हूँ
मैं किताब हूँ
Arti Bhadauria
जिंदगी है कोई मांगा हुआ अखबार नहीं ।
जिंदगी है कोई मांगा हुआ अखबार नहीं ।
Phool gufran
"सच का टुकड़ा"
Dr. Kishan tandon kranti
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
usne kuchh is tarah tarif ki meri.....ki mujhe uski tarif pa
Rakesh Singh
बेटा तेरे बिना माँ
बेटा तेरे बिना माँ
Basant Bhagawan Roy
*ये आती और जाती सांसें*
*ये आती और जाती सांसें*
sudhir kumar
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
🥀 *गुरु चरणों की धूल*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ग़ज़ल __
ग़ज़ल __ "है हकीकत देखने में , वो बहुत नादान है,"
Neelofar Khan
वो लड़की
वो लड़की
Kunal Kanth
हम कैसे कहें कुछ तुमसे सनम ..
हम कैसे कहें कुछ तुमसे सनम ..
Sunil Suman
सहारे
सहारे
Kanchan Khanna
जब निहत्था हुआ कर्ण
जब निहत्था हुआ कर्ण
Paras Nath Jha
No love,only attraction
No love,only attraction
Bidyadhar Mantry
अब जी हुजूरी हम करते नहीं
अब जी हुजूरी हम करते नहीं
gurudeenverma198
न जाने कहाँ फिर से, उनसे मुलाकात हो जाये
न जाने कहाँ फिर से, उनसे मुलाकात हो जाये
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
या खुदा तेरा ही करम रहे।
या खुदा तेरा ही करम रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
सत्तावन की क्रांति का ‘ एक और मंगल पांडेय ’
सत्तावन की क्रांति का ‘ एक और मंगल पांडेय ’
कवि रमेशराज
.
.
शेखर सिंह
ये कैसा घर है. . .
ये कैसा घर है. . .
sushil sarna
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/26.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
*चुनावी कुंडलिया*
*चुनावी कुंडलिया*
Ravi Prakash
Loading...