Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 Dec 2022 · 1 min read

*मद्धिम प्रातः काल (कुंडलिया)*

*मद्धिम प्रातः काल (कुंडलिया)*
_________________________
छाया कुहरा शीत का, मद्धिम प्रातः काल
सूरज दुल्हन-सा दिखा, मानों घूॅंघट डाल
मानों घूॅंघट डाल, सुबह है खोई-खोई
सोया जैसे विश्व, नदारद है हर कोई
कहते रवि कविराय, मजा अद्भुत है आया
जाड़ों में अनमोल, दृश्य यह अनुपम छाया
_______________________
*रचयिता : रवि प्रकाश*
बाजार सर्राफा, रामपुर (उत्तर प्रदेश)
मोबाइल 99976 15451

53 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.

Books from Ravi Prakash

You may also like:
वाणशैय्या पर भीष्मपितामह
वाणशैय्या पर भीष्मपितामह
मनोज कर्ण
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
या ख़ुदा पाँव में बे-शक मुझे छाले देना
Anis Shah
तुम्हारे जाने के बाद...
तुम्हारे जाने के बाद...
Prem Farrukhabadi
उठ जाओ भोर हुई...
उठ जाओ भोर हुई...
जगदीश लववंशी
वो दिन भी क्या दिन थे
वो दिन भी क्या दिन थे
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
अनगढ आवारा पत्थर
अनगढ आवारा पत्थर
Mr. Rajesh Lathwal Chirana
💐अज्ञात के प्रति-68💐
💐अज्ञात के प्रति-68💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
Ek ladki udas hoti hai
Ek ladki udas hoti hai
Sakshi Tripathi
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप ।
पुण्यात्मा के हाथ भी, हो जाते हैं पाप ।
डॉ.सीमा अग्रवाल
रूख हवाओं का
रूख हवाओं का
Dr fauzia Naseem shad
"शब्द"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम दोषी हो?
तुम दोषी हो?
Dr. Girish Chandra Agarwal
"काला झंडा"
*Author प्रणय प्रभात*
बहुत ख्वाब देखता हूँ मैं
बहुत ख्वाब देखता हूँ मैं
gurudeenverma198
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
हमारी हार के किस्सों के हिस्से हो गए हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
लफ्जों के तीर बड़े तीखे होते हैं जनाब
लफ्जों के तीर बड़े तीखे होते हैं जनाब
Shubham Pandey (S P)
स्वार्थ
स्वार्थ
Sushil chauhan
दो फूल खिले खिलकर आपस में चहकते हैं
दो फूल खिले खिलकर आपस में चहकते हैं
Shivkumar Bilagrami
एक दिन यह समय भी बदलेगा
एक दिन यह समय भी बदलेगा
कवि दीपक बवेजा
श्रृंगारपरक दोहे
श्रृंगारपरक दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भरते थे घर में कभी, गेहूँ चावल दाल ( कुंडलिया )
भरते थे घर में कभी, गेहूँ चावल दाल ( कुंडलिया )
Ravi Prakash
=====
=====
AJAY AMITABH SUMAN
सरसी छंद
सरसी छंद
Charu Mitra
मौजु
मौजु
DR ARUN KUMAR SHASTRI
नित्य तो केवल आत्मा और ईश्वर है
नित्य तो केवल आत्मा और ईश्वर है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
प्रेम की चाहा
प्रेम की चाहा
RAKESH RAKESH
We host the flag of HINDI FESTIVAL but send our kids to an E
We host the flag of HINDI FESTIVAL but send our kids to an E
DrLakshman Jha Parimal
अशोक महान
अशोक महान
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Aadarsh Dubey
हमें दिल की हर इक धड़कन पे हिन्दुस्तान लिखना है
हमें दिल की हर इक धड़कन पे हिन्दुस्तान लिखना है
Irshad Aatif
Loading...