Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
13 Mar 2024 · 1 min read

मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि

मदिरा वह धीमा जहर है जो केवल सेवन करने वाले को ही नहीं बल्कि परिवार और समाज को भी खोखला करती है।।

ओम प्रकाश श्रीवास्तव ओम

1 Like · 68 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुरु बिन गति मिलती नहीं
गुरु बिन गति मिलती नहीं
अभिनव अदम्य
अब प्यार का मौसम न रहा
अब प्यार का मौसम न रहा
Shekhar Chandra Mitra
किताबों वाले दिन
किताबों वाले दिन
Kanchan Khanna
तर्क-ए-उल्फ़त
तर्क-ए-उल्फ़त
Neelam Sharma
self doubt.
self doubt.
पूर्वार्थ
दूसरों के अधिकारों
दूसरों के अधिकारों
Dr.Rashmi Mishra
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
हम दुनिया के सभी मच्छरों को तो नहीं मार सकते है तो क्यों न ह
Rj Anand Prajapati
अपनी नज़र में
अपनी नज़र में
Dr fauzia Naseem shad
कविता
कविता
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
तुम न आये मगर..
तुम न आये मगर..
लक्ष्मी सिंह
पानी का संकट
पानी का संकट
Seema gupta,Alwar
"जाल"
Dr. Kishan tandon kranti
#गजल:-
#गजल:-
*प्रणय प्रभात*
नौकरी (२)
नौकरी (२)
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
Bhupendra Rawat
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
धरती ने जलवाष्पों को आसमान तक संदेश भिजवाया
ruby kumari
"भँडारे मेँ मिलन" हास्य रचना
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
मुझको उनसे क्या मतलब है
मुझको उनसे क्या मतलब है
gurudeenverma198
मोदी ही क्यों??
मोदी ही क्यों??
गुमनाम 'बाबा'
संवेदना की बाती
संवेदना की बाती
Ritu Asooja
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
जीवन साथी,,,दो शब्द ही तो है,,अगर सही इंसान से जुड़ जाए तो ज
Shweta Soni
*बहती हुई नदी का पानी, क्षण-भर कब रुक पाया है (हिंदी गजल)*
*बहती हुई नदी का पानी, क्षण-भर कब रुक पाया है (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
कविताएँ
कविताएँ
Shyam Pandey
सोच
सोच
Dinesh Kumar Gangwar
राजतंत्र क ठगबंधन!
राजतंत्र क ठगबंधन!
Bodhisatva kastooriya
गुज़र गयी है जिंदगी की जो मुश्किल घड़ियां।।
गुज़र गयी है जिंदगी की जो मुश्किल घड़ियां।।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
वर्तमान
वर्तमान
Shyam Sundar Subramanian
क्या कहेंगे लोग
क्या कहेंगे लोग
Surinder blackpen
त्वमेव जयते
त्वमेव जयते
DR ARUN KUMAR SHASTRI
कहाॅं तुम पौन हो।
कहाॅं तुम पौन हो।
Pt. Brajesh Kumar Nayak
Loading...