Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
14 Mar 2023 · 1 min read

मत पूछो मुझ पर क्या , क्या गुजर रही

मत पूछो मुझ पर क्या , क्या गुजर रही

जब से एक दर्दे दिल
नासूर बन गया आजकल !

427 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
डॉ अरुण कुमार शास्त्री -
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिस्मानी इश्क
जिस्मानी इश्क
Sanjay ' शून्य'
मैं तेरी हो गयी
मैं तेरी हो गयी
Adha Deshwal
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
तुलनात्मक अध्ययन एक अपराध-बोध
Mahender Singh
दो वक्त के निवाले ने मजदूर बना दिया
दो वक्त के निवाले ने मजदूर बना दिया
VINOD CHAUHAN
Dad's Tales of Yore
Dad's Tales of Yore
Natasha Stephen
*प्रभु आप भक्तों की खूब परीक्षा लेते रहते हो,और भक्त जब परीक
*प्रभु आप भक्तों की खूब परीक्षा लेते रहते हो,और भक्त जब परीक
Shashi kala vyas
// दोहा पहेली //
// दोहा पहेली //
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
*भर ले खुद में ज्योति तू ,बन जा आत्म-प्रकाश (कुंडलिया)*
*भर ले खुद में ज्योति तू ,बन जा आत्म-प्रकाश (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
वो बदल रहे हैं।
वो बदल रहे हैं।
Taj Mohammad
बड़ा मज़ा आता है,
बड़ा मज़ा आता है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
संगीत................... जीवन है
संगीत................... जीवन है
Neeraj Agarwal
"धैर्य"
Dr. Kishan tandon kranti
तुम वोट अपना मत बेच देना
तुम वोट अपना मत बेच देना
gurudeenverma198
भूख 🙏
भूख 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
2651.पूर्णिका
2651.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
मेरी एक सहेली है
मेरी एक सहेली है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
इंतज़ार एक दस्तक की, उस दरवाजे को थी रहती, चौखट पर जिसकी धूल, बरसों की थी जमी हुई।
Manisha Manjari
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
हरियाली के बीच में , माँ का पकड़े हाथ ।
Mahendra Narayan
आओ थोड़ा जी लेते हैं
आओ थोड़ा जी लेते हैं
Dr. Pradeep Kumar Sharma
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
बदली - बदली हवा और ये जहाँ बदला
सिद्धार्थ गोरखपुरी
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
गगन पर अपलक निहारता जो चांंद है
इंजी. संजय श्रीवास्तव
नैनों के अभिसार ने,
नैनों के अभिसार ने,
sushil sarna
"एक शोर है"
Lohit Tamta
@व्हाट्सअप/फेसबुक यूँनीवर्सिटी 😊😊
@व्हाट्सअप/फेसबुक यूँनीवर्सिटी 😊😊
*Author प्रणय प्रभात*
वो कालेज वाले दिन
वो कालेज वाले दिन
Akash Yadav
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
स्वप्न लोक के खिलौने - दीपक नीलपदम्
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
After becoming a friend, if you do not even talk or write tw
DrLakshman Jha Parimal
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ये भावनाओं का भंवर है डुबो देंगी
ruby kumari
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
इस गोशा-ए-दिल में आओ ना
Neelam Sharma
Loading...