Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Jul 2023 · 1 min read

मझधार

मझधार

चले थे संग मंजिल को
लिए एक तेरा ही भरोसा ,
मुझे मझधार में ही छोड़ा
मिला नही तेरा सहारा।

सफर बीता है दिन का जब
निपट निशा तब आयी थी,
भय से हुआ भयभीत तब
जब घनघोर घटायें छायी थी।

भीषण दमक दामिनी की
पुरवाई भी हुई मदान्ध,
खबर बादलों ने ली मेरी
खुद वो लक्षित थे कामांध।

खुल कर खेली वर्षा रानी
अरमानों की जली थी होली,
सफर अधूरा मंजिल का
गली हाथ की मेरी मौली।

जार -जार मै रोया था
तार – तार अरमान हुए,
ऐसा लम्हा कोई बीता नहीं
जब तुमको न याद किये।

सोचा सेज किसी की तो
निश्चित आज सजी होगी,
मेरे नहीं तो किसी और की
बाँहों में निश्चित तुम होगी

होकर तब निराश निर्मेष
एक वृक्ष की लिए ओट,
आस किया सुखद उषा की
अरमानों का गला घोंट।

निर्मेष

323 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
सापटी
सापटी
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
मां की अभिलाषा
मां की अभिलाषा
RAKESH RAKESH
24/232. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
24/232. *छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
आए तो थे प्रकृति की गोद में ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
सिर घमंडी का नीचे झुका रह गया।
सिर घमंडी का नीचे झुका रह गया।
सत्य कुमार प्रेमी
पागलपन
पागलपन
भरत कुमार सोलंकी
दुख तब नहीं लगता
दुख तब नहीं लगता
Harminder Kaur
बदल गयो सांवरिया
बदल गयो सांवरिया
Khaimsingh Saini
सुप्रभात प्रिय..👏👏
सुप्रभात प्रिय..👏👏
आर.एस. 'प्रीतम'
बस जाओ मेरे मन में
बस जाओ मेरे मन में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई-
रंगोत्सव की हार्दिक बधाई-
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
💐प्रेम कौतुक-348💐
💐प्रेम कौतुक-348💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
हे पिता
हे पिता
अनिल मिश्र
गरीब
गरीब
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
हमनें अपना
हमनें अपना
Dr fauzia Naseem shad
हाइपरटेंशन
हाइपरटेंशन
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
दीवारें खड़ी करना तो इस जहां में आसान है
दीवारें खड़ी करना तो इस जहां में आसान है
Charu Mitra
■ यक़ीन मानिएगा...
■ यक़ीन मानिएगा...
*Author प्रणय प्रभात*
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
यूँ तो कही दफ़ा पहुँची तुम तक शिकायत मेरी
'अशांत' शेखर
रक्षाबंधन
रक्षाबंधन
Suman (Aditi Angel 🧚🏻)
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
मुझसे बेज़ार ना करो खुद को
Shweta Soni
प्रेम ...
प्रेम ...
sushil sarna
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
खाने पीने का ध्यान नहीं _ फिर भी कहते बीमार हुए।
Rajesh vyas
तो मेरे साथ चलो।
तो मेरे साथ चलो।
Manisha Manjari
*नि:स्वार्थ विद्यालय सृजित जो कर गए उनको नमन (गीत)*
*नि:स्वार्थ विद्यालय सृजित जो कर गए उनको नमन (गीत)*
Ravi Prakash
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
माशूका नहीं बना सकते, तो कम से कम कोठे पर तो मत बिठाओ
Anand Kumar
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
शायद वो खत तूने बिना पढ़े ही जलाया होगा।।
★ IPS KAMAL THAKUR ★
लाख बड़ा हो वजूद दुनियां की नजर में
लाख बड़ा हो वजूद दुनियां की नजर में
शेखर सिंह
जिंदगी एक सफर
जिंदगी एक सफर
Neeraj Agarwal
"मोहब्बत में"
Dr. Kishan tandon kranti
Loading...