Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Feb 2023 · 1 min read

मज़दूर

लाचार था
मजबूर था
क्योंकि मैं
मज़दूर था…
(१)
कभी मज़हब
के हाथों से
कभी सियासत
के ज़रिए
क़त्ल हुआ
बेरहमी से
हालांकि
बेकसूर था…
(२)
मेहनतकश
ग़ुलाम रहें
हरामखोर
हाकिम बनें
सदियों से
इस समाज में
ज़ारी यही
दस्तूर था…
(३)
फिर एक बड़ा
इंकलाब हुआ
और यह देश
आज़ाद हुआ
लेकिन कुछ
मक्कारों को
ये सब कहां
मंज़ूर था…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#नवजागरण #गीत #प्रदर्शन #आंदोलन
#छात्र #गरीब #मजदूर #किसान #कवि
#students #politics #lyrics #सच
#bollywood #हल्लाबोल #सियासत

Language: Hindi
Tag: गीत
390 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मेरी कलम से…
मेरी कलम से…
Anand Kumar
कामवासना
कामवासना
Sandhya Chaturvedi(काव्यसंध्या)
क्षणिका
क्षणिका
sushil sarna
श्री श्याम भजन
श्री श्याम भजन
Khaimsingh Saini
समाज को जगाने का काम करते रहो,
समाज को जगाने का काम करते रहो,
नेताम आर सी
सच को तमीज नहीं है बात करने की और
सच को तमीज नहीं है बात करने की और
Ranjeet kumar patre
जानते वो भी हैं...!!
जानते वो भी हैं...!!
Kanchan Khanna
एकमात्र सहारा
एकमात्र सहारा
Mahender Singh
संवेदनाएं
संवेदनाएं
Buddha Prakash
क्या यही संसार होगा...
क्या यही संसार होगा...
डॉ.सीमा अग्रवाल
*
*" कोहरा"*
Shashi kala vyas
स्याह एक रात
स्याह एक रात
हिमांशु Kulshrestha
सीख गांव की
सीख गांव की
Mangilal 713
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
जिंदगी में सफ़ल होने से ज्यादा महत्वपूर्ण है कि जिंदगी टेढ़े
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
#विश्व_वृद्धजन_दिवस_पर_आदरांजलि
#विश्व_वृद्धजन_दिवस_पर_आदरांजलि
*प्रणय प्रभात*
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
हर रात उजालों को ये फ़िक्र रहती है,
हर रात उजालों को ये फ़िक्र रहती है,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
*गम को यूं हलक में  पिया कर*
*गम को यूं हलक में पिया कर*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
*रामचरितमानस में गूढ़ अध्यात्म-तत्व*
*रामचरितमानस में गूढ़ अध्यात्म-तत्व*
Ravi Prakash
पिताजी का आशीर्वाद है।
पिताजी का आशीर्वाद है।
Kuldeep mishra (KD)
आंसूओं की नहीं
आंसूओं की नहीं
Dr fauzia Naseem shad
खुद के अलावा खुद का सच
खुद के अलावा खुद का सच
शिव प्रताप लोधी
नववर्ष
नववर्ष
Neeraj Agarwal
टन टन
टन टन
SHAMA PARVEEN
बहुत उम्मीदें थीं अपनी, मेरा कोई साथ दे देगा !
बहुत उम्मीदें थीं अपनी, मेरा कोई साथ दे देगा !
DrLakshman Jha Parimal
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
आजकल के बच्चे घर के अंदर इमोशनली बहुत अकेले होते हैं। माता-प
पूर्वार्थ
॥ जीवन यात्रा मे आप किस गति से चल रहे है इसका अपना  महत्व  ह
॥ जीवन यात्रा मे आप किस गति से चल रहे है इसका अपना महत्व ह
Satya Prakash Sharma
"हकीकत"
Dr. Kishan tandon kranti
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
गंतव्य में पीछे मुड़े, अब हमें स्वीकार नहीं
Er.Navaneet R Shandily
2645.पूर्णिका
2645.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
Loading...