Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Jan 2023 · 1 min read

मकर संक्रांति

शुभ मकर संक्रांति पर्व

मेला में जमघट लगा, दे कर प्रभु को अर्ध्य।
उत्तरायण प्रभु भास्कर ,पुण्य कर्म अब सध्य।
पुण्य कर्म अब सध्य, नौग्रह भाव के स्वामी।
सब कुछ करते दान ,राजा भोज से नामी।
कहें प्रेम कविराय, हो शुभ लग्न का रेला।
मकर संक्रांति पर्व,हर्षोल्लास का मेला।
डा.प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम

1 Like · 203 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
View all
You may also like:
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
साइकिल चलाने से प्यार के वो दिन / musafir baitha
Dr MusafiR BaithA
"ज्वाला
भरत कुमार सोलंकी
हिम्मत मत हारो, नए सिरे से फिर यात्रा शुरू करो, कामयाबी ज़रूर
हिम्मत मत हारो, नए सिरे से फिर यात्रा शुरू करो, कामयाबी ज़रूर
Nitesh Shah
गुस्सा सातवें आसमान पर था
गुस्सा सातवें आसमान पर था
सिद्धार्थ गोरखपुरी
భారత దేశ వీరుల్లారా
భారత దేశ వీరుల్లారా
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
दिल एक उम्मीद
दिल एक उम्मीद
Dr fauzia Naseem shad
एक बार नहीं, हर बार मैं
एक बार नहीं, हर बार मैं
gurudeenverma198
*धरती की आभा बढ़ी,, बूँदों से अभिषेक* (कुंडलिया)
*धरती की आभा बढ़ी,, बूँदों से अभिषेक* (कुंडलिया)
Ravi Prakash
संबंधो में अपनापन हो
संबंधो में अपनापन हो
संजय कुमार संजू
এটি একটি সত্য
এটি একটি সত্য
Otteri Selvakumar
देखने का नजरिया
देखने का नजरिया
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
........,?
........,?
शेखर सिंह
3358.⚘ *पूर्णिका* ⚘
3358.⚘ *पूर्णिका* ⚘
Dr.Khedu Bharti
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
कुछ यादें कालजयी कवि कुंवर बेचैन की
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
गवाह तिरंगा बोल रहा आसमान 🇧🇴
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
"'मोम" वालों के
*Author प्रणय प्रभात*
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
हमारे जख्मों पे जाया न कर।
Manoj Mahato
पूर्णिमा की चाँदनी.....
पूर्णिमा की चाँदनी.....
Awadhesh Kumar Singh
"लिख और दिख"
Dr. Kishan tandon kranti
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
बुंदेली दोहा प्रतियोगिता-151से चुने हुए श्रेष्ठ दोहे (लुगया)
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
हथिनी की व्यथा
हथिनी की व्यथा
रोहताश वर्मा 'मुसाफिर'
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
ज्ञानी मारे ज्ञान से अंग अंग भीग जाए ।
Krishna Kumar ANANT
पाश्चात्यता की होड़
पाश्चात्यता की होड़
Mukesh Kumar Sonkar
“गणतंत्र दिवस”
“गणतंत्र दिवस”
पंकज कुमार कर्ण
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
समझ आती नहीं है
समझ आती नहीं है
हिमांशु Kulshrestha
*मैं, तुम और हम*
*मैं, तुम और हम*
sudhir kumar
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
कृष्ण प्रेम की परिभाषा हैं, प्रेम जगत का सार कृष्ण हैं।
सत्य कुमार प्रेमी
की तरह
की तरह
Neelam Sharma
Loading...