Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
15 Jan 2023 · 1 min read

मकर पर्व स्नान दान का

मकर पर्व है स्नान दान का
जन-जीवन में सत्य सनातन ।
भाष्कर का आगमन मकर में
बनता अवसर अतिशय पावन ।।

प्रवाहिनी की जल धारा में ,
सब डुबकी श्रध्दालु लगाते ।
दान-दक्षिणा संत रंक दे ,
पुण्य धर्म का सुफल कमाते ।।
उदित सूर्य को जल अर्पित कर
करते हैं आराधन वंदन ।
मकर पर्व…………….।।

नमन पूज्य पुरखों के यश को
संतानों को सुपथ दिखाए।
धर्म आचरण के प्रतिफल को
पीढ़ी दर पीढ़ी हम पाए ।।
सदियों से है किया सभी ने
नित-प्रति परंपरा का पालन ।
मकर पर्व……………….।।

तिल खिचड़ी तिल लड्डू खाकर
भेद भाव को मन से हरते ।
नील गगन में उड़ें पतंगें
आनंदोत्सव जीवन भरते ।।
नेह बंध सब लोग निभाते ,
बना पर्व खिचड़ी मनरंजन ।
मकर पर्व ……………….।।

डा.सुनीता सिंह ‘सुधा’
वाराणसी©®

Language: Hindi
219 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
हिंदी दिवस पर राष्ट्राभिनंदन
हिंदी दिवस पर राष्ट्राभिनंदन
Seema gupta,Alwar
I love to vanish like that shooting star.
I love to vanish like that shooting star.
Manisha Manjari
एक दिन की बात बड़ी
एक दिन की बात बड़ी
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
(24) कुछ मुक्तक/ मुक्त पद
Kishore Nigam
अपना - पराया
अपना - पराया
Neeraj Agarwal
Collect your efforts to through yourself on the sky .
Collect your efforts to through yourself on the sky .
Sakshi Tripathi
गाँधीजी (बाल कविता)
गाँधीजी (बाल कविता)
Ravi Prakash
राष्ट्र भाषा राज भाषा
राष्ट्र भाषा राज भाषा
Dinesh Gupta
कैसे भुला पायेंगे
कैसे भुला पायेंगे
Surinder blackpen
संकल्प
संकल्प
Shyam Sundar Subramanian
शर्म
शर्म
परमार प्रकाश
आंखों को मल गए
आंखों को मल गए
Dr fauzia Naseem shad
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
पति पत्नी पर हास्य व्यंग
Ram Krishan Rastogi
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
तुम्हें ना भूल पाऊँगी, मधुर अहसास रक्खूँगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
आज फिर।
आज फिर।
Taj Mohammad
जुबाँ चुप हो
जुबाँ चुप हो
Satish Srijan
!! वो बचपन !!
!! वो बचपन !!
Akash Yadav
वट सावित्री
वट सावित्री
लक्ष्मी सिंह
कर ले कुछ बात
कर ले कुछ बात
जगदीश लववंशी
💐प्रेम कौतुक-366💐
💐प्रेम कौतुक-366💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
समय का एक ही पल किसी के लिए सुख , किसी के लिए दुख , किसी के
Seema Verma
"बेदर्द जमाने में"
Dr. Kishan tandon kranti
2574.पूर्णिका
2574.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
क्या सत्य है ?
क्या सत्य है ?
Buddha Prakash
#दीनता_की_कहानी_कहूँ_और_क्या....!!
#दीनता_की_कहानी_कहूँ_और_क्या....!!
संजीव शुक्ल 'सचिन'
चोला रंग बसंती
चोला रंग बसंती
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
हमारी
हमारी "डेमोक्रेसी"
*Author प्रणय प्रभात*
*
*"बापू जी"*
Shashi kala vyas
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
जिंदगी उधार की, रास्ते पर आ गई है
Smriti Singh
गुम है सरकारी बजट,
गुम है सरकारी बजट,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
Loading...