Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Oct 2023 · 2 min read

मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।

मंत्र :या देवी सर्वभूतेषु सृष्टि रूपेण संस्थिता।
नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः।।

( अर्थात जो देवी संपूर्ण सृष्टि में विद्यमान है और रचयिता है, उनको मैं नमस्कार करता हूँ, बार-बार उनको नमन करता हूँ।)

नवरात्र के चौथे दिन दुर्गा जी ने चौथा रूप माँ कुष्मांडा का रूप धारण किया था। कुष्मांडा शब्द तीन शब्दों से मिलकर बना है- कु- जिसका अर्थ है छोटा; ऊष्मा- जिसका अर्थ है गर्मी और अंडा- जिसका अर्थ है अंडा।
यह आदि परम शक्ति ही थी जिन्होंने ब्रह्मांड में जीवन को फिर से शुरू करने के लिए माँ कुष्मांडा का रूप धारण किया था मान्यता है की देवी पार्वती ने ऊर्जा और प्रकाश को संतुलित करने के लिए सूर्य के केंद्र में निवास किया। सूर्य लोक में रहने की शक्ति क्षमता केवल इन्हीं में है इसलिए इनके शरीर की कांति और प्रभा सूर्य की ही भांति दैदीप्यमान है।माँ कुष्मांडा देवी के हाथ में जो अमृत कलश होता है उससे वह अपने भक्तों को दीर्घायु और उत्तम स्वास्थ्य प्रदान करती हैं। माँ कुष्मांडा की पूजा करने से सुख, समृद्धि तथा बुद्धि का विकास होता है, साथ ही जीवन में निर्णय लेने की शक्ति बढ़ती है। माँ की अष्टभुजाएं हैं। आठवें हाथ में सभी सिद्धियौ और निधियों को देने वाली जपमाला है ,जो जीवन में कर्म करने का संदेश देती है। उनकी मुस्कान यह बताती है कि हमें हर परिस्थिति का सामना हँसकर करना चाहिए। माँ कुष्मांडा सिंह की सवारी करती हैं जो धर्म का प्रतीक है। इस दिन नारंगी रंग के वस्त्र पहनकर माता की पूजा करने से वह प्रसन्न होती है और जीवन में प्रसन्नता का आशीर्वाद देती है। माँ कुष्मांडा को भोग में मालपुए का भोग लगाया जाता है। माँ कुष्मांडा का स्मरण करके उनको धूप, अक्षत, लाल पुष्प, सफेद कुम्हड़ा, फल, सुखे मेवे और सौभाग्य का सामान अर्पित करें।

हरमिंदर कौर
अमरोहा (यू.पी.)

1 Like · 79 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
मन की बात
मन की बात
पूर्वार्थ
अगर कोई अच्छा खासा अवगुण है तो लोगों की उम्मीद होगी आप उस अव
अगर कोई अच्छा खासा अवगुण है तो लोगों की उम्मीद होगी आप उस अव
Dr. Rajeev Jain
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
मरने वालों का तो करते है सब ही खयाल
shabina. Naaz
जब स्वार्थ अदब का कंबल ओढ़ कर आता है तो उसमें प्रेम की गरमाह
जब स्वार्थ अदब का कंबल ओढ़ कर आता है तो उसमें प्रेम की गरमाह
Lokesh Singh
तुम्हारा साथ
तुम्हारा साथ
Ram Krishan Rastogi
2289.पूर्णिका
2289.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
"याद तुम्हारी आती है"
Dr. Kishan tandon kranti
रूप कुदरत का
रूप कुदरत का
surenderpal vaidya
सम्यक योग की साधना दुरुस्त करे सब भोग,
सम्यक योग की साधना दुरुस्त करे सब भोग,
Mahender Singh
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Hum tumhari giraft se khud ko azad kaise kar le,
Sakshi Tripathi
उदारता
उदारता
RAKESH RAKESH
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
देखकर उन्हें देखते ही रह गए
ठाकुर प्रतापसिंह "राणाजी"
चाबी घर की हो या दिल की
चाबी घर की हो या दिल की
शेखर सिंह
दिल में कुण्ठित होती नारी
दिल में कुण्ठित होती नारी
Pratibha Pandey
सुधार आगे के लिए परिवेश
सुधार आगे के लिए परिवेश
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
*जय माँ झंडेया वाली*
*जय माँ झंडेया वाली*
Poonam Matia
आधुनिक भारत के कारीगर
आधुनिक भारत के कारीगर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
जमाने की साजिशों के आगे हम मोन खड़े हैं
जमाने की साजिशों के आगे हम मोन खड़े हैं
कवि दीपक बवेजा
काशी
काशी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
दिल तसल्ली को
दिल तसल्ली को
Dr fauzia Naseem shad
दस्तक बनकर आ जाओ
दस्तक बनकर आ जाओ
Satish Srijan
मानस हंस छंद
मानस हंस छंद
Subhash Singhai
वो इश्क को हंसी मे
वो इश्क को हंसी मे
पंकज पाण्डेय सावर्ण्य
विवादित मुद्दों पर
विवादित मुद्दों पर
*Author प्रणय प्रभात*
श्रृंगारिक दोहे
श्रृंगारिक दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अफसाने
अफसाने
ब्रजनंदन कुमार 'विमल'
लोग मुझे अक्सर अजीज समझ लेते हैं
लोग मुझे अक्सर अजीज समझ लेते हैं
सिद्धार्थ गोरखपुरी
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
अब कभी तुमको खत,हम नहीं लिखेंगे
gurudeenverma198
अव्यक्त प्रेम
अव्यक्त प्रेम
Surinder blackpen
रोज मरते हैं
रोज मरते हैं
Dr. Reetesh Kumar Khare डॉ रीतेश कुमार खरे
Loading...