Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
5 Aug 2023 · 1 min read

मंजिल

मंजिल

वह समय, जो अब बीत गया
उसके लिए हमें क्या पछताना ?
वह समय, जो अभी बाकी है
उसे क्योंकर व्यर्थ गँवाना है ?
जो राह हमने अपने लिए चुना है
उस पर निरंतर चलते ही जाना है।
हमारी मंजिल, बेशक अभी दूर है
पर हमें सतत चलते ही जाना है।
जब तक मंजिल मिल न जाए
राह में कहीं भी रूकना नहीं है।
इसमें बाधाएँ चाहें जितनी आएँ
हमें शांतचित्त हो उसे हटाना है।
सपने, जो खुली आँखों से देखे हैं
उन्हें साकार भी हमें ही करना हैं।
– डॉ. प्रदीप कुमार शर्मा
रायपुर, छत्तीसगढ़

214 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कभी
कभी
Ranjana Verma
हर पिता को अपनी बेटी को,
हर पिता को अपनी बेटी को,
Shutisha Rajput
बड़ी बात है ....!!
बड़ी बात है ....!!
हरवंश हृदय
बोलना , सुनना और समझना । इन तीनों के प्रभाव से व्यक्तित्व मे
बोलना , सुनना और समझना । इन तीनों के प्रभाव से व्यक्तित्व मे
Raju Gajbhiye
लिख रहा हूं कहानी गलत बात है
लिख रहा हूं कहानी गलत बात है
कवि दीपक बवेजा
जीत कहां ऐसे मिलती है।
जीत कहां ऐसे मिलती है।
नेताम आर सी
थोपा गया कर्तव्य  बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
थोपा गया कर्तव्य बोझ जैसा होता है । उसमें समर्पण और सेवा-भा
Seema Verma
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
*जब कभी दिल की ज़मीं पे*
Poonam Matia
थूंक पॉलिस
थूंक पॉलिस
Dr. Pradeep Kumar Sharma
*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*
*आ गया मौसम वसंती, फागुनी मधुमास है (गीत)*
Ravi Prakash
महान् बनना सरल है
महान् बनना सरल है
प्रेमदास वसु सुरेखा
राम
राम
umesh mehra
रक्षाबंधन (कुंडलिया)
रक्षाबंधन (कुंडलिया)
दुष्यन्त 'बाबा'
इश्क़
इश्क़
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
तेरा हम पर कहां
तेरा हम पर कहां
Dr fauzia Naseem shad
मुक्तक
मुक्तक
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
एक दिन जब वो अचानक सामने ही आ गए।
सत्य कुमार प्रेमी
एक बार फिर...
एक बार फिर...
Madhavi Srivastava
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
ruby kumari
"काश"
Dr. Kishan tandon kranti
अब ना होली रंगीन होती है...
अब ना होली रंगीन होती है...
Keshav kishor Kumar
इंतजार
इंतजार
Pratibha Pandey
तेवरी
तेवरी
कवि रमेशराज
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
सावन‌....…......हर हर भोले का मन भावन
Neeraj Agarwal
इस छोर से.....
इस छोर से.....
Shiva Awasthi
हम भारत के लोग उड़ाते
हम भारत के लोग उड़ाते
Satish Srijan
🙅एक न एक दिन🙅
🙅एक न एक दिन🙅
*Author प्रणय प्रभात*
अब न तुमसे बात होगी...
अब न तुमसे बात होगी...
डॉ.सीमा अग्रवाल
प्रतीक्षा
प्रतीक्षा
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
बुद्ध भक्त सुदत्त
बुद्ध भक्त सुदत्त
Buddha Prakash
Loading...