Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
22 Jun 2023 · 1 min read

भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,

भ्रात-बन्धु-स्त्री सभी,
पहले छोड़ें साथ
लक्ष्मी जी जब रूठकर,
छोड़े तेरा हाथ
—महावीर उत्तरांचली

2 Likes · 255 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
View all
You may also like:
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
उड़ते हुए आँचल से दिखती हुई तेरी कमर को छुपाना चाहता हूं
Vishal babu (vishu)
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
त्याग समर्पण न रहे, टूट ते परिवार।
Anil chobisa
कभी अंधेरे में हम साया बना हो,
कभी अंधेरे में हम साया बना हो,
goutam shaw
जीवन को जीतती हैं
जीवन को जीतती हैं
Dr fauzia Naseem shad
"शर्म मुझे आती है खुद पर, आखिर हम क्यों मजदूर हुए"
Anand Kumar
Sometimes people  think they fell in love with you because t
Sometimes people think they fell in love with you because t
पूर्वार्थ
परमेश्वर दूत पैगम्बर💐🙏
परमेश्वर दूत पैगम्बर💐🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
वक्त नहीं है
वक्त नहीं है
VINOD CHAUHAN
Thought
Thought
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
देखें हम भी उस सूरत को
देखें हम भी उस सूरत को
gurudeenverma198
बाल गीत
बाल गीत "लंबू चाचा आये हैं"
अटल मुरादाबादी, ओज व व्यंग कवि
Gratitude Fills My Heart Each Day!
Gratitude Fills My Heart Each Day!
R. H. SRIDEVI
संस्कार में झुक जाऊं
संस्कार में झुक जाऊं
Ranjeet kumar patre
प्रकृति पर कविता
प्रकृति पर कविता
कवि अनिल कुमार पँचोली
सूरज दादा
सूरज दादा
डॉ. शिव लहरी
"आशिकी"
Dr. Kishan tandon kranti
🙅कही-अनकही🙅
🙅कही-अनकही🙅
*प्रणय प्रभात*
3512.🌷 *पूर्णिका* 🌷
3512.🌷 *पूर्णिका* 🌷
Dr.Khedu Bharti
Game of the time
Game of the time
Mangilal 713
जज़्बा है, रौशनी है
जज़्बा है, रौशनी है
Dhriti Mishra
उतर चुके जब दृष्टि से,
उतर चुके जब दृष्टि से,
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
किसी की याद मे आँखे नम होना,
किसी की याद मे आँखे नम होना,
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
* दिल बहुत उदास है *
* दिल बहुत उदास है *
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
वैशाख की धूप
वैशाख की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मेरे अंतस में ......
मेरे अंतस में ......
sushil sarna
कई मौसम गुज़र गये तेरे इंतज़ार में।
कई मौसम गुज़र गये तेरे इंतज़ार में।
Phool gufran
*मायावी मारा गया, रावण प्रभु के हाथ (कुछ दोहे)*
*मायावी मारा गया, रावण प्रभु के हाथ (कुछ दोहे)*
Ravi Prakash
लोगों के रिश्मतों में अक्सर
लोगों के रिश्मतों में अक्सर "मतलब" का वजन बहुत ज्यादा होता
Jogendar singh
चंचल मन चित-चोर है , विचलित मन चंडाल।
चंचल मन चित-चोर है , विचलित मन चंडाल।
Manoj Mahato
नामुमकिन
नामुमकिन
Srishty Bansal
Loading...