Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 Aug 2023 · 1 min read

भ्रष्टाचार और सरकार

भ्रष्टाचारी सड़कों पर
कमीशन के गड्डे हैं ।
लीक होती सीवर लाइन
सबूत और भी पुख्ते हैं ।

गली गली खुदी पडी़ है
नल जल के नाम पर ।
ठेके भी ले लिए
अपने चमचों के नाम पर ।

परेशान होती जनता है,
फिर भी फ़र्ज न उसका बनता है ,
नेता जी की बेमानी है
या जनता की नादानी है।

बहुत हुई अब तानाशाही,
कर दो अब इनकी विदाई
बदल डालो सरकार हे बप्पा,
सही लगाओ वोट का ठप्पा ।

डां. अखिलेश बघेल
दतिया (म.प्र.)

Language: Hindi
1 Like · 189 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
कैसा
कैसा
Ajay Mishra
उस
उस"कृष्ण" को आवाज देने की ईक्षा होती है
Atul "Krishn"
यह धरती भी तो, हमारी एक माता है
यह धरती भी तो, हमारी एक माता है
gurudeenverma198
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
‘लोक कवि रामचरन गुप्त’ के 6 यथार्थवादी ‘लोकगीत’
कवि रमेशराज
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
आज 31 दिसंबर 2023 साल का अंतिम दिन है।ढूंढ रहा हूं खुद को कि
पूर्वार्थ
ऐ आसमां ना इतरा खुद पर
ऐ आसमां ना इतरा खुद पर
शिव प्रताप लोधी
संवेदना सुप्त हैं
संवेदना सुप्त हैं
Namrata Sona
संसद के नए भवन से
संसद के नए भवन से
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
लखनऊ शहर
लखनऊ शहर
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
😢4
😢4
*Author प्रणय प्रभात*
कविता (आओ तुम )
कविता (आओ तुम )
Sangeeta Beniwal
🥀✍ *अज्ञानी की*🥀
🥀✍ *अज्ञानी की*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
ग़ज़ल - ज़िंदगी इक फ़िल्म है -संदीप ठाकुर
Sandeep Thakur
व्हाट्सएप के दोस्त
व्हाट्सएप के दोस्त
DrLakshman Jha Parimal
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
रात के बाद सुबह का इंतजार रहता हैं।
Neeraj Agarwal
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
अतुल वरदान है हिंदी, सकल सम्मान है हिंदी।
Neelam Sharma
जहर    ना   इतना  घोलिए
जहर ना इतना घोलिए
Paras Nath Jha
बुरा ख्वाबों में भी जिसके लिए सोचा नहीं हमने
बुरा ख्वाबों में भी जिसके लिए सोचा नहीं हमने
Shweta Soni
खुबिया जानकर चाहना आकर्षण है.
खुबिया जानकर चाहना आकर्षण है.
शेखर सिंह
नूतन वर्ष
नूतन वर्ष
Madhavi Srivastava
फितरत
फितरत
Srishty Bansal
!! फूलों की व्यथा !!
!! फूलों की व्यथा !!
Chunnu Lal Gupta
गांव की बात निराली
गांव की बात निराली
जगदीश लववंशी
हे! नव युवको !
हे! नव युवको !
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*सीढ़ी चढ़ती और उतरती(बाल कविता)*
*सीढ़ी चढ़ती और उतरती(बाल कविता)*
Ravi Prakash
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
बस जाओ मेरे मन में , स्वामी होकर हे गिरधारी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
तुम्हें पाने के लिए
तुम्हें पाने के लिए
Surinder blackpen
2633.पूर्णिका
2633.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
प्रिय के प्रयास पर झूठ मूठ सी रूठी हुई सी, लाजवंती के गालों
kaustubh Anand chandola
एक समय वो था
एक समय वो था
Dr.Rashmi Mishra
Loading...