Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
16 Jul 2016 · 1 min read

भोला भाला रूप

भोला-भाला रूप बना कुछ साधू फैंके जाल
कथा-कहानी सुनके जनता दंग,करते वो कमाल
असलियत खुली, गुनाह सामने, उन्हें मिलती जेल
अंधास्था, अन्धविश्वास कभी न करो, रखो ख्याल

Language: Hindi
Tag: मुक्तक
1 Comment · 225 Views
You may also like:
!! मुसाफिर !!
RAJA KUMAR 'CHOURASIA'
The Survior
श्याम सिंह बिष्ट
कवि कर्म
दशरथ रांकावत 'शक्ति'
*"याचना"*
Shashi kala vyas
साँझ
Alok Saxena
नारी सशक्तिकरण
अभिनव अदम्य
पैसा पैसा कैसा पैसा
विजय कुमार अग्रवाल
एक से नहीं होते
shabina. Naaz
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमें क़िस्मत ने आज़माया है ।
Dr fauzia Naseem shad
औरतों की हैसियत
Shekhar Chandra Mitra
"पराधीन आजादी"
Dr Meenu Poonia
बेजुवान मित्र
AMRESH KUMAR VERMA
अनमोल राजू
Anamika Singh
“ प्रतिक्रिया ,समालोचना आ टिप्पणी “
DrLakshman Jha Parimal
अनवरत का सच
Rashmi Sanjay
इस तरहां धीरे- धीरे
gurudeenverma198
सजना सिन्होरवाँ सुघर रहे, रहे बनल मोर अहिवात।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
आकाश के नीचे
मनमोहन लाल गुप्ता 'अंजुम'
ख़ूब समझते हैं ghazal by Vinit Singh Shayar
Vinit kumar
🌺प्रेम की राह पर-54🌺
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
*राधे राधे प्रिया प्रिया ...श्री राधे राधे प्रिया प्रिया*
Ravi Prakash
रुतबा
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
अज़ल से प्यार करना इतना आसान है क्या /लवकुश यादव...
लवकुश यादव "अज़ल"
ये ज़िन्दगी जाने क्यों ऐसी सज़ा देती है।
Manisha Manjari
मेरे अल्फाज़...
श्रद्धा
उपहार
विजय कुमार 'विजय'
मां की महानता
Satpallm1978 Chauhan
नहीं चाहता
सिद्धार्थ गोरखपुरी
हरित वसुंधरा।
Anil Mishra Prahari
Loading...