Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
19 Mar 2024 · 1 min read

“भोर की आस” हिन्दी ग़ज़ल

सिलसिला गुफ़्तगू का, कुछ तो, चलाते रहिए,
प्रीत की, पेँग भी, हर रोज़, बढ़ाते रहिए।

होँगी काफ़ूर, शिद्दतेँ भी, सोज़-ए-दिल की,
सुनें उनकी, तो कुछ, अपनी भी, सुनाते रहिए।

कोई कर दे, कभी मेघों से गुज़ारिश मेरी,
आसमां पे, बिना मौसम के भी छाते रहिए।

भूल जाना भी, हसीनों की इक अदा ठहरी,
उनको हौले से कभी, याद दिलाते रहिए।

इश्क़े-जज़्बात, ख़ुदकुशी न कहीं कर बैठें,
खाद-पानी भी कभी, उनको पिलाते रहिए।

सुना है, वक़्त, हरेक चीज़, बदल देता है,
दिल मिले या न मिले, हाथ मिलाते रहिए।

उज़्र है, आपको जो, रूबरू आने से, मेरे,
कम से कम,स्वप्न मेँ,हर शब को तो आते रहिए।

शमा की लौ भले, मद्धिम सी हुई जाती है,
भोर होने को है, “आशा” तो, जगाते रहिए..!

काफ़ूर # ग़ायब होना, to disappear
शिद्दतेँ # तीव्रता, गहराई आदि, severity, depth etc.
सोज़-ए-दिल # दिल का दर्द, agony of heart
उज़्र # एतराज, objection
शब # रात, night

Language: Hindi
6 Likes · 7 Comments · 67 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
View all
You may also like:
#आस्था_पर्व-
#आस्था_पर्व-
*Author प्रणय प्रभात*
"" *जीवन आसान नहीं* ""
सुनीलानंद महंत
बदल गया जमाना🌏🙅🌐
बदल गया जमाना🌏🙅🌐
डॉ० रोहित कौशिक
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
अब मै ख़ुद से खफा रहने लगा हूँ
Bhupendra Rawat
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
चली गई ‌अब ऋतु बसंती, लगी ग़ीष्म अब तपने
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
बहती नदी का करिश्मा देखो,
बहती नदी का करिश्मा देखो,
Buddha Prakash
"Battling Inner Demons"
Manisha Manjari
एक ही तारनहारा
एक ही तारनहारा
Satish Srijan
बेबसी!
बेबसी!
कविता झा ‘गीत’
मतलब भरी दुनियां में जरा संभल कर रहिए,
मतलब भरी दुनियां में जरा संभल कर रहिए,
शेखर सिंह
उनकी यादें
उनकी यादें
Ram Krishan Rastogi
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
मुस्कुरा देने से खुशी नहीं होती, उम्र विदा देने से जिंदगी नह
Slok maurya "umang"
किसान का दर्द
किसान का दर्द
Tarun Singh Pawar
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
साथ हो एक मगर खूबसूरत तो
ओनिका सेतिया 'अनु '
अब हर राज़ से पर्दा उठाया जाएगा।
अब हर राज़ से पर्दा उठाया जाएगा।
Praveen Bhardwaj
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
तुम्हें पाना-खोना एकसार सा है--
Shreedhar
Hum mom ki kathputali to na the.
Hum mom ki kathputali to na the.
Sakshi Tripathi
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
मेरे हर शब्द की स्याही है तू..
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
तू भूल जा उसको
तू भूल जा उसको
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
*जब तक दंश गुलामी के ,कैसे कह दूँ आजादी है 【गीत 】*
*जब तक दंश गुलामी के ,कैसे कह दूँ आजादी है 【गीत 】*
Ravi Prakash
इस छोर से.....
इस छोर से.....
Shiva Awasthi
🌺🌻 *गुरु चरणों की धूल*🌻🌺
🌺🌻 *गुरु चरणों की धूल*🌻🌺
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
मन के भाव हमारे यदि ये...
मन के भाव हमारे यदि ये...
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
धर्म वर्ण के भेद बने हैं प्रखर नाम कद काठी हैं।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
अधूरी रह जाती दस्तान ए इश्क मेरी
Er. Sanjay Shrivastava
वफादारी का ईनाम
वफादारी का ईनाम
Shekhar Chandra Mitra
जाग गया है हिन्दुस्तान
जाग गया है हिन्दुस्तान
Bodhisatva kastooriya
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
24--- 🌸 कोहरे में चाँद 🌸
Mahima shukla
*मन राह निहारे हारा*
*मन राह निहारे हारा*
Poonam Matia
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
तेरे जागने मे ही तेरा भला है
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...