Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

भूल गये इस दौर में, शायद हम तहजीब(दोहे)

मिले देखने आजकल ,खबरें कई अजीब !
भूल गये इस दौर में, शायद हम तहजीब !!

चेहरे पर आती नही,. ..कभी झुर्रियाँ आप !
छिपी तजुर्बों की हमे,दिखे अनगिनत छाप !!

देशभक्ति पर पड़ रही, राजनीति की गाज !
नारे हिन्दुस्तान के, ……अर्थ नए पर आज !!

जुडे मीडिया से सदा,राजनीति के तार!
वही दिखाता है हमे,.जो चाहे सरकार !!

उसने दरिया कर लिया,जीवन का हर पार !
संस्कारों की नाव पर, ..वो जो हुआ सवार !!

रोके से रुकते नहीं, कभी कभी जज्बात !
बनकर आँसू आँख से , बहती है हर बात !!

मेरे मुझको छोड़कर,चले गए सब ख़ास !
आई मेरी मुफ़लिसी,उन्हें न शायद रास !!

कैसे कोई किस तरह,इसका करे इलाज !
तोडें अपने ही अगर, .अपने बने रिवाज !!

सींचा रह रह कर सदा जातिवाद का वृक्ष !
राजनीति इस कृत्य में , .रही हमेशा दक्ष !!

राजनीति का एक ही, लगता अब तो काम !
इक दूजे पर थोपना,…..अपने पाप तमाम !!

आरक्षण की आग मे , रहे रोटियाँ सेक !
दिखें सियासत मे हमें,.ऐसे धूर्त अनेक !!

हिंसा से सुधरे नही, कभी मित्र हालात !
भूल गये इस दौर मे,हम शायद ये बात !!
रमेश शर्मा

Language: Hindi
Tag: दोहा
3 Likes · 2 Comments · 212 Views
You may also like:
सुविचारों का स्वागत है
नवीन जोशी 'नवल'
बहुत कम होता हैवो लम्हा
shabina. Naaz
✍️कुछ दर्द खास होने चाहिये
'अशांत' शेखर
*पुस्तक समीक्षा*
Ravi Prakash
हिंदी, सपनों की भाषा
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
मैं छोटी नन्हीं सी गुड़िया ।
लक्ष्मी सिंह
कभी हक़ किसी पर
Dr fauzia Naseem shad
धूप
Saraswati Bajpai
तीन किताबें
Buddha Prakash
सपनों की तुम बात करो
कवि दीपक बवेजा
पिता
पूनम झा 'प्रथमा'
भारतवर्ष स्वराष्ट्र पूर्ण भूमंडल का उजियारा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हाइकु: आहार।
Prabhudayal Raniwal
हवा का झोका हू
AK Your Quote Shayari
चाहत
Lohit Tamta
गणपति
विशाल शुक्ल
उपहार
विजय कुमार अग्रवाल
कविता: माँ मुझको किताब मंगा दो, मैं भी पढ़ने जाऊंगा।
Rajesh Kumar Arjun
गुलिस्तां
Alok Saxena
दुखो की नैया
AMRESH KUMAR VERMA
“ पागल -प्रेमी ”
DrLakshman Jha Parimal
त'अम्मुल(पशोपेश)
Shyam Sundar Subramanian
पापा आप बहुत याद आते हो।
Taj Mohammad
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
माँ तुम सबसे खूबसूरत हो
Anamika Singh
ऐसा करने से पहले
gurudeenverma198
वेदनापूर्ण लय है
Varun Singh Gautam
Affection couldn't be found in shallow spaces.
Manisha Manjari
वक्त की उलझनें
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
गाँव की साँझ / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...