Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
11 Jul 2016 · 1 min read

भूल गये इस दौर में, शायद हम तहजीब(दोहे)

मिले देखने आजकल ,खबरें कई अजीब !
भूल गये इस दौर में, शायद हम तहजीब !!

चेहरे पर आती नही,. ..कभी झुर्रियाँ आप !
छिपी तजुर्बों की हमे,दिखे अनगिनत छाप !!

देशभक्ति पर पड़ रही, राजनीति की गाज !
नारे हिन्दुस्तान के, ……अर्थ नए पर आज !!

जुडे मीडिया से सदा,राजनीति के तार!
वही दिखाता है हमे,.जो चाहे सरकार !!

उसने दरिया कर लिया,जीवन का हर पार !
संस्कारों की नाव पर, ..वो जो हुआ सवार !!

रोके से रुकते नहीं, कभी कभी जज्बात !
बनकर आँसू आँख से , बहती है हर बात !!

मेरे मुझको छोड़कर,चले गए सब ख़ास !
आई मेरी मुफ़लिसी,उन्हें न शायद रास !!

कैसे कोई किस तरह,इसका करे इलाज !
तोडें अपने ही अगर, .अपने बने रिवाज !!

सींचा रह रह कर सदा जातिवाद का वृक्ष !
राजनीति इस कृत्य में , .रही हमेशा दक्ष !!

राजनीति का एक ही, लगता अब तो काम !
इक दूजे पर थोपना,…..अपने पाप तमाम !!

आरक्षण की आग मे , रहे रोटियाँ सेक !
दिखें सियासत मे हमें,.ऐसे धूर्त अनेक !!

हिंसा से सुधरे नही, कभी मित्र हालात !
भूल गये इस दौर मे,हम शायद ये बात !!
रमेश शर्मा

Language: Hindi
3 Likes · 2 Comments · 281 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
डॉ अरुण कुमार शास्त्री
DR ARUN KUMAR SHASTRI
✍️हे बेबी!गंगा में नाव पर बैठकर,जप ले नमः शिवाय✍️
✍️हे बेबी!गंगा में नाव पर बैठकर,जप ले नमः शिवाय✍️
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
निर्वात का साथी🙏
निर्वात का साथी🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
परेशानियों से न घबराना
परेशानियों से न घबराना
Vandna Thakur
स्वर्ग नर्क ब्रह्मांड (कुंडलिया)
स्वर्ग नर्क ब्रह्मांड (कुंडलिया)
Ravi Prakash
अगर आप
अगर आप
Dr fauzia Naseem shad
मेरी बेटियाँ और उनके आँसू
मेरी बेटियाँ और उनके आँसू
DESH RAJ
*
*"शिव आराधना"*
Shashi kala vyas
* अवधपुरी की ओर *
* अवधपुरी की ओर *
surenderpal vaidya
ठोकरे इतनी खाई है हमने,
ठोकरे इतनी खाई है हमने,
कवि दीपक बवेजा
माना मैं उसके घर नहीं जाता,
माना मैं उसके घर नहीं जाता,
डी. के. निवातिया
"काहे का स्नेह मिलन"
Dr Meenu Poonia
मुक्तक
मुक्तक
sushil sarna
... और मैं भाग गया
... और मैं भाग गया
नंदलाल सिंह 'कांतिपति'
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
सही कहो तो तुम्हे झूटा लगता है
Rituraj shivem verma
यह मकर संक्रांति
यह मकर संक्रांति
gurudeenverma198
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
मुझको कभी भी आज़मा कर देख लेना
Ram Krishan Rastogi
द़ुआ कर
द़ुआ कर
Atul "Krishn"
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
नजर लगी हा चाँद को, फीकी पड़ी उजास।
डॉ.सीमा अग्रवाल
■ वक़्त बदल देता है रिश्तों की औक़ात।
■ वक़्त बदल देता है रिश्तों की औक़ात।
*Author प्रणय प्रभात*
आँखों के आंसू झूठे है, निश्छल हृदय से नहीं झरते है।
आँखों के आंसू झूठे है, निश्छल हृदय से नहीं झरते है।
Buddha Prakash
"तवा"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
तेरी चाहत में सच तो तुम हो
Neeraj Agarwal
क़ैद कर लीं हैं क्यों साँसे ख़ुद की 'नीलम'
क़ैद कर लीं हैं क्यों साँसे ख़ुद की 'नीलम'
Neelam Sharma
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
मेरा देश एक अलग ही रसते पे बढ़ रहा है,
नेताम आर सी
पराये सपने!
पराये सपने!
Saransh Singh 'Priyam'
प्रेम
प्रेम
Ranjana Verma
"यादें"
Yogendra Chaturwedi
जो कहना है खुल के कह दे....
जो कहना है खुल के कह दे....
Shubham Pandey (S P)
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
बस इतनी सी अभिलाषा मेरी
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
Loading...