Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
9 May 2024 · 2 min read

*भिन्नात्मक उत्कर्ष*

डॉ अरुण कुमार शास्त्री

भिन्नात्मक उत्कर्ष

जीवन तनहाई ही तो है, अंततोगत्वा ।
रह सकते हो तो तन्हा ही रहना, लड़ना ।
और उसी प्रक्रिया में देह त्याग देना ।

सम्मान करना सीख लो यदि पुरुष हो
तो नारी का, अपनी हो पराई हो
और यदि नारी हो तो पुरुष का ।

वरना अकेले ही रहना , भिन्नात्मक उत्कर्ष
या अनमने मन से साथ रहने को
साथ नहीं कहा जा सकता , एय दोस्तों ।

अन्यथा –

जीवन तनहाई ही तो है, अंततोगत्वा ।
रह सकते हो तो तन्हा ही रहना, लड़ना ।
और उसी प्रक्रिया में देह त्याग देना ।

प्यार है तो ये ही व्यवहार है तुम्हारा ,
जो लेकर जाएगा मंजिल तक,
हां देर लगेगी , ये लिख के ले लो सुनिश्चित है ।

जीवन तनहाई ही है अंततोगत्वा
रह सकते हो तो तन्हा ही रहना लड़ना ।

टूट मत जाना बीच मझधार में ।
फिर कुछ नहीं बचेगा ।
इच्छा को सर्वोपरि मानकर झुक भी मत जाना,

स्थिर रहोगे तो ही सुरक्षित रहोगे ।

तनहाई सुनाएगी गीत अनमने अनजाने
और तुम्हें सुनना पड़ेगा, जीतोगे तो तारीफ
हारोगे तो ताने, सहना पड़ेगा । लिख के ले लो ।

जीवन तन्हाई ही है अंततोगत्वा
रह सकते हो तो तन्हा ही रहना, लड़ना ।

अपनों ने अपमान किया तुम सह आए, क्यूँ कि वे अपने थे ।
गैरों से सम्मान, मिले तो क्षुब्ध हुए , और तन गए ।
मत नियत को नियति मान लेना तुम ।

मानोगे तो चूक होगी , बहुधा ऐसा ही होता है ।
तुम मत चूक जाना , वक्त हालात, किस्मत से
तुम्हें आसानी से कुछ न मिलेगा, छीनना पड़ेगा ।
मेहनत से , या किस्मत से….या फिर वक्त से ।

जो पाओगे सिद्ध सत्य , सैद्धांतिक संकल्पना में
स्वीकार करना पड़ेगा , ये जीवन मात्र एक अकेला ही,
मौका, देता, मौला सब को , तुम कोई खास नहीं।
लेकिन पहले परीक्षण करेगा , फिर देगा ।

चुरा सको तो चुनना मार्ग सजग हो कर ,
भूख को शरीर की कमजोरी मान नकार सको तो चलना ।
आसानी से उपलब्ध नहीं होगा , बुद्धत्व समझा करो ,।
अन्यथा इसको मत लेना , प्रयास तो करो ,

विचलित मत होना ,

जीवन तन्हाई ही तो है, अंततोगत्वा ।
रह सकते हो तो तन्हा ही रहना, लड़ना ।
और उसी प्रक्रिया में देह त्याग देना ।

साथ दिखेंगे अनेक, होंगे नही , भ्रांति होगी सत्य नहीं ।
जो होंगे वो दिखेंगे नही , लेकिन सच्चे अर्थों में ,
वो ही तेरे होंगे , मगर साथ चलने की जिद्द उनसे कभी करना नहीं।
आना होगा तो कहने की आवश्यकता नहीं होगी ।
नहीं आना होगा तो कह के देख को आएँगे नहीं ।

जीवन तन्हाई ही तो है, अंततोगत्वा ।
रह सकते हो तो तन्हा ही रहना, लड़ना ।
और उसी प्रक्रिया में देह त्याग देना ।

वरना अकेले ही रहना , भिन्नात्मक उत्कर्ष
या अनमने मन से साथ रहने को
साथ नहीं कहा जा सकता , एय दोस्तों ।

अन्यथा –

1 Like · 82 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from DR ARUN KUMAR SHASTRI
View all
You may also like:
* शक्ति आराधना *
* शक्ति आराधना *
surenderpal vaidya
बालगीत - सर्दी आई
बालगीत - सर्दी आई
Kanchan Khanna
خود کو وہ پائے
خود کو وہ پائے
Dr fauzia Naseem shad
लंबा सफ़र
लंबा सफ़र
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
विद्याधन
विद्याधन
Dr. Pradeep Kumar Sharma
दोहा -
दोहा -
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
भीगी पलकें...
भीगी पलकें...
Naushaba Suriya
विटप बाँटते छाँव है,सूर्य बटोही धूप।
विटप बाँटते छाँव है,सूर्य बटोही धूप।
डॉक्टर रागिनी
"सन्त रविदास जयन्ती" 24/02/2024 पर विशेष ...
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
श्री राम अमृतधुन भजन
श्री राम अमृतधुन भजन
Khaimsingh Saini
అతి బలవంత హనుమంత
అతి బలవంత హనుమంత
डॉ गुंडाल विजय कुमार 'विजय'
Even if you stand
Even if you stand
Dhriti Mishra
■ साल चुनावी, हाल तनावी।।
■ साल चुनावी, हाल तनावी।।
*प्रणय प्रभात*
बनें सब आत्मनिर्भर तो, नहीं कोई कमी होगी।
बनें सब आत्मनिर्भर तो, नहीं कोई कमी होगी।
डॉ.सीमा अग्रवाल
विनती मेरी माँ
विनती मेरी माँ
Basant Bhagawan Roy
खरीद लो दुनिया के सारे ऐशो आराम
खरीद लो दुनिया के सारे ऐशो आराम
Ranjeet kumar patre
जीवन की विषम परिस्थितियों
जीवन की विषम परिस्थितियों
Dr.Rashmi Mishra
दोस्ती
दोस्ती
Neeraj Agarwal
प्यार के काबिल बनाया जाएगा।
प्यार के काबिल बनाया जाएगा।
Neelam Sharma
*गधा (बाल कविता)*
*गधा (बाल कविता)*
Ravi Prakash
प्रेम पथ का एक रोड़ा 🛣️🌵🌬️
प्रेम पथ का एक रोड़ा 🛣️🌵🌬️
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
हे अयोध्या नाथ
हे अयोध्या नाथ
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
दर्द -दर्द चिल्लाने से सूकून नहीं मिलेगा तुझे,
दर्द -दर्द चिल्लाने से सूकून नहीं मिलेगा तुझे,
Pramila sultan
व्यंग्य कविता-
व्यंग्य कविता- "गणतंत्र समारोह।" आनंद शर्मा
Anand Sharma
धरती माँ ने भेज दी
धरती माँ ने भेज दी
Dr Manju Saini
गवाही देंगे
गवाही देंगे
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
"मेरे गीत"
Dr. Kishan tandon kranti
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
बंधन में रहेंगे तो संवर जायेंगे
Dheerja Sharma
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
अपनों को नहीं जब हमदर्दी
gurudeenverma198
ले चल मुझे भुलावा देकर
ले चल मुझे भुलावा देकर
Dr Tabassum Jahan
Loading...