Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
20 May 2024 · 1 min read

आत्मनिर्भर नारी

भावनाओं में जीती हूं ,
भावनाओं में मरती हूं ,
कितनी सीढ़ी पार हुई हूं ,
मंजिल देखा करती हूं।

हिंदुस्तान की बेटी हूं,
उर से अदम्य साहसी हूं,
समस्याओं का समाधान हूं,
संत्रासो का निदान हूं।

पिता की शान हूं ,
माता की ममता हूं,
कलाई की राखी भी मैं हूं,
दोनो कुल उजियारी मैं हूं।

दुर्गा भी मैं लक्ष्मी मैं हूं,
रानी लक्ष्मीबाई मैं हूं,
सत्यवान की सावित्री हूं,
धरा से आसमा की यात्री हूं।

वचन की पक्की हूं,
मैं निर्भीक गंभीर हूं,
निज भाग्य की लकीर हूं, निज देश की जागीर हूं।

Language: Hindi
42 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
गुरु मेरा मान अभिमान है
गुरु मेरा मान अभिमान है
Harminder Kaur
उत्साह का नव प्रवाह
उत्साह का नव प्रवाह
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
हर बच्चा एक गीता है 🙏
हर बच्चा एक गीता है 🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
#दोहा
#दोहा
*प्रणय प्रभात*
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
ऐ मां वो गुज़रा जमाना याद आता है।
अभिषेक पाण्डेय 'अभि ’
*
*"ममता"* पार्ट-4
Radhakishan R. Mundhra
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
दोस्ती में लोग एक दूसरे की जी जान से मदद करते हैं
ruby kumari
Quote
Quote
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुक्तक
मुक्तक
पंकज कुमार कर्ण
वक्त के आगे
वक्त के आगे
Sangeeta Beniwal
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
बद मिजाज और बद दिमाग इंसान
shabina. Naaz
चिट्ठी   तेरे   नाम   की, पढ लेना करतार।
चिट्ठी तेरे नाम की, पढ लेना करतार।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
प्रश्नपत्र को पढ़ने से यदि आप को पता चल जाय कि आप को कौन से
Sanjay ' शून्य'
कौतूहल एवं जिज्ञासा
कौतूहल एवं जिज्ञासा
Shyam Sundar Subramanian
ग़ज़ल __
ग़ज़ल __ "है हकीकत देखने में , वो बहुत नादान है,"
Neelofar Khan
उत्तर
उत्तर
Dr.Priya Soni Khare
"सियासत में"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन ज्योति
जीवन ज्योति
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
सबला नारी
सबला नारी
आनन्द मिश्र
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
काल चक्र कैसा आया यह, लोग दिखावा करते हैं
पूर्वार्थ
ग़ज़ल
ग़ज़ल
ईश्वर दयाल गोस्वामी
“कवि की कविता”
“कवि की कविता”
DrLakshman Jha Parimal
* बातें व्यर्थ की *
* बातें व्यर्थ की *
surenderpal vaidya
लघुकथा - दायित्व
लघुकथा - दायित्व
अशोक कुमार ढोरिया
वादी ए भोपाल हूं
वादी ए भोपाल हूं
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
खुद से मिल
खुद से मिल
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
23/33.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/33.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
मसला ये नहीं कि कोई कविता लिखूं ,
Manju sagar
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
यादों की महफिल सजी, दर्द हुए गुलजार ।
sushil sarna
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
मैं एक फरियाद लिए बैठा हूँ
Bhupendra Rawat
Loading...