भारत मेरा महान् (देशगान)

उन्‍नत भाल हिमालय सुरसरि, गंगा जिसकी आन।
उन्‍मुक्‍त तिरंगा शान्ति-दूत बन, देता है संज्ञान।
चक्र सुदर्शन सा लहराए, करता है गुणगान।
चहूँ दिशा पहुँचेगी मेरे, भारत की पहचान।।

महाभारत, रामायण्‍ा, गीता, जन-गण-मन सा गान।
ताजमहल भी बना मेरे, भारत का अ‍मिट निशान।
महिला शक्त्‍िा बन उभरीं, महामहिम भारत की शान।
अद्वितीय, अजेय, अनूठा ही है, भारत मेरा महान्।

यह वो देश है जहाँँ से दुनिया ने, शून्‍य को जाना।
खेल, पर्यटन और फिल्‍मों से, है जिसको पहचाना।
अंतरिक्ष पहुँच और तकनीकी, प्रतिभाओं से विश्‍व भी माना।
बिना रक्‍त क्रांति के जिसने, पहना स्‍वाधीनी बाना।

भाषा का सिरमौर, सभ्‍यता, संस्‍कार, सम्‍मान।
न्‍याय और आतिथ्‍य हैं मेरे, भाारत के परिधान।
विज्ञान, ज्ञान, संगीत मिला, आध्‍यात्‍म गुरू का मान।
ऐसे भारत को ‘आकुल’ का, शत-शत बार प्रणाम।।

(मेरेे काव्‍य संग्रह ‘जीवन की गूँज’ से)

138 Views
You may also like:
हम इतने भी बुरे नही,जितना लोगो ने बताया है
Ram Krishan Rastogi
दिले यार ना मिलते हैं।
Taj Mohammad
कविराज
Buddha Prakash
राई का पहाड़
Sangeeta Darak maheshwari
बसन्त बहार
N.ksahu0007@writer
काश बचपन लौट आता
Anamika Singh
*स्वर्गीय श्री जय किशन चौरसिया : न थके न हारे*
Ravi Prakash
भाग्य की तख्ती
Deepali Kalra
हे पिता,करूँ मैं तेरा वंदन
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अद्भभुत है स्व की यात्रा
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
पुस्तैनी जमीन
आकाश महेशपुरी
अब कहां कोई।
Taj Mohammad
काव्य संग्रह से
Rishi Kumar Prabhakar
प्रेम की पींग बढ़ाओ जरा धीरे धीरे
Ram Krishan Rastogi
वैवाहिक वर्षगांठ मुक्तक
अभिनव मिश्र अदम्य
जुल्म
AMRESH KUMAR VERMA
पिता
कुमार अविनाश केसर
बेटी का पत्र माँ के नाम
Anamika Singh
*!* कच्ची बुनियाद *!*
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
वार्तालाप….
Piyush Goel
क्या गढ़ेगा (निर्माण करेगा ) पाकिस्तान
Dr.sima
बेटियाँ
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
ब्रेक अप
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
पिता की व्यथा
मनोज कर्ण
जिंदगी का मशवरा
Krishan Singh
निद्रा
Vikas Sharma'Shivaaya'
शब्द बिन, नि:शब्द होते,दिख रहे, संबंध जग में।
संजीव शुक्ल 'सचिन'
【22】 तपती धरती करे पुकार
Arise DGRJ (Khaimsingh Saini)
अभी बचपन है इनका
gurudeenverma198
बच्चों के पिता
Dr. Kishan Karigar
Loading...