Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 Nov 2016 · 2 min read

भारत में राजनीतिक आपातकाल

प्रिय मित्र और भाई कह रहे है रामकिशन जैसा भी था आखिर था तो फौजी उसपे मत लिखो …….. लेकिन मुल्क के हालात मुझे लिखने को मजबूर कर देते हैं ……..
सीमा पे छाती पे गोली खाने वाले को महज 10-5 लाख और और सल्फास खाने वाले को एक करोड़ …….. बॉर्डर पे कर्तव्य निर्वाह कर प्राणों की आहुति देने वालों से सबूत मांगे जाए ……… जंतर मंतर पे महज़ 2-4 हज़ार रुपल्ली के लिए जान देने वाले को एक करोड़ और शहीद का दर्जा दिया जाये ………
फिर क्यों ना लिखूं मैं रामकिशन पे ?? ………
शहीद हनुमंतथप्पा सियाचिन में हज़ारों टन बर्फ के नीचे प्राणों की आहुति देते हैं …….. मनदीप का शव दिवाली के दिन घर आता है ……… उड़ी में नींद में सोये सपूतों को जान से मारा जाता है ……… रोज़ वतन की सरहदों पे हमारे भाई दुश्मन की गोली खा के शहीद हो रहे हैं ……… मुझे उनपे गर्व है ना कि रामकिशन पे ……… फिर क्यों ना लिखूं मैं रामकिशन पे ………
तिरंगे में लिपट के रोज़ जवानों के शव घर आते है …….. बूढ़े माँ बाप जवान पत्नी छोटे भाई बहन और मासूम बच्चों की सुध लेने वाला कोई नहीं होता है ……..
रामकिशन सरपंच था ……… लाखों का कर्जदार ……… शौचालय घोटाला ……… OROP जैसे आधारहीन मुद्दे पे सल्फास खा के आत्महत्या ……… परिवार को एक करोड़ बेटे को नौकरी ……….
क्यों भाई किस बात के दे रहे हो रामकिशन दामाद था तुम्हारा ………. जितना सम्मान आप करते हो ना सेना का उतना मैं भी करता हूं ……… जितने आप देशभक्त हो ना उतना देशभक्त मैं भी हूं ……… सेना और देश के प्रति मेरी निष्ठा पे सन्देह ना करें ……… मैं यहाँ किसी को खुश करने या चंद लाइक कमेन्ट पाने के लिए नहीं लिखता हूं ……… जो सच्च है वो लिखता हूं ………
मेरे लिए शहीद हनुमन्तथप्पा और मंदीप है ……… सरहद पे गोली खाने वाला हर एक जवान मेरे लिए देशभक्त है …….. पूजनीय है …….. आदरणीय है ……… सल्फास खा के राजनीतिक आत्महत्या करने वाले को मैं ना फौजी मानता हूं ना योद्धा ……… योद्धा कभी मरते नहीं है लड़ते है हालातों से ……… आखिरी सांस तक डट के मुकाबला करते है हालातों का !!!! ………
??

Language: Hindi
Tag: लेख
294 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
*चुनाव में महिला सीट का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
*चुनाव में महिला सीट का चक्कर (हास्य व्यंग्य)*
Ravi Prakash
देव्यपराधक्षमापन स्तोत्रम
देव्यपराधक्षमापन स्तोत्रम
पंकज प्रियम
चन्द्रयान
चन्द्रयान
Kavita Chouhan
है कौन वो राजकुमार!
है कौन वो राजकुमार!
Shilpi Singh
हरेक मतदान केंद्र पर
हरेक मतदान केंद्र पर
*Author प्रणय प्रभात*
2671.*पूर्णिका*
2671.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
विडम्बना
विडम्बना
Shaily
नया साल
नया साल
Arvina
अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह
अगर आप समय के अनुसार नही चलकर शिक्षा को अपना मूल उद्देश्य नह
Shashi Dhar Kumar
ग़ज़ल -
ग़ज़ल -
Mahendra Narayan
हर पिता को अपनी बेटी को,
हर पिता को अपनी बेटी को,
Shutisha Rajput
माँ तुम्हारे रूप से
माँ तुम्हारे रूप से
Dr. Rajendra Singh 'Rahi'
कलम
कलम
Sushil chauhan
श्रृंगारपरक दोहे
श्रृंगारपरक दोहे
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
Irritable Bowel Syndrome
Irritable Bowel Syndrome
Tushar Jagawat
"जरा सोचो"
Dr. Kishan tandon kranti
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
वह इंसान नहीं
वह इंसान नहीं
Anil chobisa
भाग्य प्रबल हो जायेगा
भाग्य प्रबल हो जायेगा
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
भाई
भाई
Kanchan verma
दुःख इस बात का नहीं के तुमने बुलाया नहीं........
दुःख इस बात का नहीं के तुमने बुलाया नहीं........
shabina. Naaz
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
खुद को सम्हाल ,भैया खुद को सम्हाल
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
मातृभाषा हिन्दी
मातृभाषा हिन्दी
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
करता नहीं हूँ फिक्र मैं, ऐसा हुआ तो क्या होगा
करता नहीं हूँ फिक्र मैं, ऐसा हुआ तो क्या होगा
gurudeenverma198
तुझसे रिश्ता
तुझसे रिश्ता
Dr fauzia Naseem shad
तुलसी चंदन हार हो, या माला रुद्राक्ष
तुलसी चंदन हार हो, या माला रुद्राक्ष
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
उधार  ...
उधार ...
sushil sarna
Tum har  wakt hua krte the kbhi,
Tum har wakt hua krte the kbhi,
Sakshi Tripathi
‌‌‍ॠतुराज बसंत
‌‌‍ॠतुराज बसंत
Rahul Singh
Writing Challenge- बाल (Hair)
Writing Challenge- बाल (Hair)
Sahityapedia
Loading...