Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2023 · 1 min read

भगतसिंह से सवाल

ओय भगता रे
ओय भगता रे
आख़िर तू मेरा क्या लगता रे…
(१)
जब भी सुना
मैंने ज़िक्र तेरा
क्यों ज़ोर से दिल यह धड़का रे
ओय भगता रे
ओय भगता रे
आख़िर तू मेरा क्या लगता रे…
(२)
जब भी सोचा
मैंने हाल तेरा
क्यों आंख से आंसू छलका रे
ओय भगता रे
ओय भगता रे
आख़िर तू मेरा क्या लगता रे…
(३)
जब भी पढ़ा
मैंने ख़्याल तेरा
क्यों शोला रगों में भड़का रे
ओय भगता रे
ओय भगता रे
आख़िर तू मेरा क्या लगता रे…
#Geetkar
Shekhar Chandra Mitra
#BhagatSingh #freedom
#fighter #तड़प #दर्द #कवि
#bollywood #lyrics #lyricist
#patriotic #भगतसिंह #शहीद
#गीतकार #जनवादी #गीत #विद्रोही

Language: Hindi
250 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
वृक्षों के उपकार....
वृक्षों के उपकार....
डॉ.सीमा अग्रवाल
मेवाडी पगड़ी की गाथा
मेवाडी पगड़ी की गाथा
Anil chobisa
भारत बनाम इंडिया
भारत बनाम इंडिया
Harminder Kaur
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
गम के दिनों में साथ कोई भी खड़ा न था।
सत्य कुमार प्रेमी
दिन सुहाने थे बचपन के पीछे छोड़ आए
दिन सुहाने थे बचपन के पीछे छोड़ आए
इंजी. संजय श्रीवास्तव
वो हर खेल को शतरंज की तरह खेलते हैं,
वो हर खेल को शतरंज की तरह खेलते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
जय भोलेनाथ
जय भोलेनाथ
Anil Mishra Prahari
दोगलापन
दोगलापन
Mamta Singh Devaa
जीवन चक्र
जीवन चक्र
विनोद वर्मा ‘दुर्गेश’
रूपसी
रूपसी
Prakash Chandra
स्क्रीनशॉट बटन
स्क्रीनशॉट बटन
Karuna Goswami
"मछली और भालू"
Dr. Kishan tandon kranti
** सपने सजाना सीख ले **
** सपने सजाना सीख ले **
surenderpal vaidya
पतंग
पतंग
अलका 'भारती'
कदमों में बिखर जाए।
कदमों में बिखर जाए।
लक्ष्मी सिंह
सुबह-सुबह की चाय और स़ंग आपका
सुबह-सुबह की चाय और स़ंग आपका
Neeraj Agarwal
2531.पूर्णिका
2531.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
ख़्याल
ख़्याल
Dr. Seema Varma
जीभ का कमाल
जीभ का कमाल
विजय कुमार अग्रवाल
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
ग़ज़ल/नज़्म - उसके सारे जज़्बात मद्देनजर रखे
अनिल कुमार
*सावन झूला मेघ पर ,नारी का अधिकार (कुंडलिया)*
*सावन झूला मेघ पर ,नारी का अधिकार (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जन्म से मरन तक का सफर
जन्म से मरन तक का सफर
Vandna Thakur
ये जीवन किसी का भी,
ये जीवन किसी का भी,
Dr. Man Mohan Krishna
#लघुकथा :--
#लघुकथा :--
*Author प्रणय प्रभात*
वैसे कार्यों को करने से हमेशा परहेज करें जैसा कार्य आप चाहते
वैसे कार्यों को करने से हमेशा परहेज करें जैसा कार्य आप चाहते
Paras Nath Jha
हमारे बाद भी चलती रहेगी बहारें
हमारे बाद भी चलती रहेगी बहारें
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
कैसे वोट बैंक बढ़ाऊँ? (हास्य कविता)
Dr. Kishan Karigar
हर दुआ में
हर दुआ में
Dr fauzia Naseem shad
अधूरी तमन्ना (कविता)
अधूरी तमन्ना (कविता)
sandeep kumar Yadav
To improve your mood, exercise
To improve your mood, exercise
पूर्वार्थ
Loading...