Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Dec 2022 · 2 min read

भक्त गोरा कुम्हार

श्रीज्ञानेश्वर के संकालीन भक्तो में उम्र में सबसे बड़े गोरा जी कुम्हार थे। इनका जन्म तेरढोकी स्थानमे संवत् १३२४ में हुआ था। इन्हें सब लोग ‘चाचा’ कहा करते थे। ये बड़े विरक्त दृढनिश्चय, ज्ञानी तथा प्रेमी भक्त थे। भगवन्नाम में तल्लीन होना इनका ऐसा था कि एक बार इनका एक नन्हा बच्चा इनके उन्मत्त नृत्यमे पैरों तले कुचल कर मर गया, पर इन्हें इसकी कुछ भी सुध न थी। इससे चिड़कर इनकी सहधर्मिणी सती ने इनसे कहा कि ‘अब आज से आप मुझे स्पर्श न करें।’ तब से इन्होंने उन्हें स्पर्श करना सदा के लिये त्याग ही दिया। इनकी पत्नी को बड़ा पश्चात्ताप हुआ और बड़ी चिन्ता हुई कि ‘इन्हें पुत्र कैसे हो और कैसे वंश चले।’ इसलिये उन्होंने अपनी बहिन रामी से इनका विवाह करा दिया। विवाह के अवसर पर श्वशुर ने इन्हें उपदेश किया कि दोनों बहिनों के साथ एक-सा व्यवहार करना। बस, इन्होंने नव-विवाहिता को भी स्पर्श न करने का निश्चय कर लिया। एक रात को दोनों बहनों ने इनके दोनों हाथ पकड़-कर अपने शरीर पर रक्खे। इन्होंने अपने उन दोनो हाथों को पापी समझकर काट दिया इस तरह की कई बाते इनके बारे मे प्रसिद्ध है। काशी आदि की यात्राओं से लोटते हुए श्रीज्ञानेश्वर, नामदेवजी आदि भक्त इनके यहाँ ठहर गये थे। सब भक्त एक साथ बैठे हुए थे। पास ही कुम्हार की एक थापी पड़ी हुई थी। उस पर संत मुक्ताबाई की दृष्टि पड़ी। उन्होने पूछा, ‘चाचाजी यह क्या चीज है?” गोराजी ने उत्तर दिया, “यह थापी
है, इससे मिट्टी के घड़े ठोंककर यह देखा जाता है कि कौन सा घड़ा कच्चा है और कौन पका। मुक्ताबाईं ने कहा हम मनुष्य भी तो घड़े की तरह ही है, इससे क्या हम लोगों की भी कच्चाई-पकाई मालूम हो सकती है?” गोरा जी ने कहा, ‘हाँ, हाँ, क्यों नहीं।’ यह कहकर उन्होंने थापी उठायी और एक एक भक्त के सर पर थपकर देखने लगे। दूसरे भक्त तो यह कौतुक देखने लगे, पर नामदेवजी को यह अच्छा नहीं लगा । उन्हें यह भक्तों का और अपना अपमान जान पड़ा । गोरा जी थपते-थपते जब नामदेवजी के पास आये तो इनको बहुत बुरा लगा। गोरा जी ने इनके भी सिर पर थापी थपी और बोले—भक्तों में यह घड़ा कच्चा है और नामदेवजी से कहने लगे ‘नामदेव तुम भक्त हो, पर अभी तुम्हारा अहंकार नहीं गया। जब तक गुरु की शरण मे नहीं जाओगे, तब तक ऐसे ही कच्चे रहोगे।’ नामदेवजी को बढ़ा दुख हुआ। वे जब पंढरपुर लौट आये, तब उन्होंने श्री विठ्ठल से अपना दुःख निवेदन किया । भगवान् ने उनसे कहा—गोरा जी का यह कहना तो सच है कि श्रीगुरु की शरण में जब तक नहीं जाओगे, तब तक कच्चे रहोगे। हम तो तुम्हारे साथ सदा ही है, पर तुम्हें किसी मनुष्य देहधारी महा पुरुष को गुरु मानकर उनके सामने नत होना होगा, उनके चरणों मे अपना अहंकार लीन करना होगा। भगवान् के आदेश के अनुसार नामदेव जी ने श्रीविसोबा खेचर को गुरु माना और गुरूपदेश ग्रहण किया।
इस प्रकार गोराजी कुम्हार बढ़े अनुभवी, ज्ञानी, भक्त थे।

||जय श्रीराम||🙏🏻

1 Like · 497 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
शिशिर ऋतु-३
शिशिर ऋतु-३
Vishnu Prasad 'panchotiya'
काव्य में अलौकिकत्व
काव्य में अलौकिकत्व
कवि रमेशराज
"शाख का पत्ता"
Dr. Kishan tandon kranti
जीवन का लक्ष्य महान
जीवन का लक्ष्य महान
Umesh उमेश शुक्ल Shukla
गम खास होते हैं
गम खास होते हैं
ruby kumari
कर ले प्यार
कर ले प्यार
Satish Srijan
कब मिलोगी मां.....
कब मिलोगी मां.....
Madhavi Srivastava
इंतिज़ार
इंतिज़ार
Shyam Sundar Subramanian
2770. *पूर्णिका*
2770. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
लगा चोट गहरा
लगा चोट गहरा
Basant Bhagawan Roy
*चार दिन की जिंदगी में ,कौन-सा दिन चल रहा ? (गीत)*
*चार दिन की जिंदगी में ,कौन-सा दिन चल रहा ? (गीत)*
Ravi Prakash
मंजिल तो  मिल जाने दो,
मंजिल तो मिल जाने दो,
Jay Dewangan
कौआ और बन्दर
कौआ और बन्दर
SHAMA PARVEEN
अनजान दीवार
अनजान दीवार
Mahender Singh
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
मेहनत कड़ी थकान न लाती, लाती है सन्तोष
महेश चन्द्र त्रिपाठी
शमा से...!!!
शमा से...!!!
Kanchan Khanna
अधिकार जताना
अधिकार जताना
Dr fauzia Naseem shad
Winner
Winner
Paras Nath Jha
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
जिंदगी में रंजो गम बेशुमार है
Er. Sanjay Shrivastava
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
Satya Prakash Sharma
रामायण में भाभी
रामायण में भाभी "माँ" के समान और महाभारत में भाभी "पत्नी" के
शेखर सिंह
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
कुछ खामोशियाँ तुम ले आना।
Manisha Manjari
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
तुम्हारी याद आती है मुझे दिन रात आती है
Johnny Ahmed 'क़ैस'
अति-उताक्ली नई पीढ़ी
अति-उताक्ली नई पीढ़ी
*Author प्रणय प्रभात*
बीज और विचित्रताओं पर कुछ बात
बीज और विचित्रताओं पर कुछ बात
Dr MusafiR BaithA
हकीकत जानते हैं
हकीकत जानते हैं
Surinder blackpen
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
19-कुछ भूली बिसरी यादों की
Ajay Kumar Vimal
नारी
नारी
Bodhisatva kastooriya
“ आलोचना ,समालोचना और विश्लेषण”
“ आलोचना ,समालोचना और विश्लेषण”
DrLakshman Jha Parimal
ऑनलाइन पढ़ाई
ऑनलाइन पढ़ाई
Rajni kapoor
Loading...