Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
1 Nov 2016 · 1 min read

भक्ति- योग से राज- शक्ति का जब हो भण्डारन बाला ( पोस्ट १२८)

मुक्तक ::
भक्ति– योग से राज – शक्ति का जब हो भण्डारन , बाला!
असुर – शक्तियों के छल- बल का होता तब मारण , बाला!
आत्म — तत्व का परिष्कार ही सभ्य- आचारण सिखलाता ।
‘ कमल’ आत्मसत्ता के तरु फिर करते फल धारण,
बाला ।।( ताटंक !!
—- जितेंद्रकमलआनंद रामपुर
०१–११–१६

Language: Hindi
212 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
✍️कुछ दर्द खास होने चाहिये
✍️कुछ दर्द खास होने चाहिये
'अशांत' शेखर
" लहर लहर लहराई तिरंगा "
Chunnu Lal Gupta
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
तुम पलाश मैं फूल तुम्हारा।
Dr. Seema Varma
बारिश की बूंदों ने।
बारिश की बूंदों ने।
Taj Mohammad
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
अयोध्या धाम तुम्हारा तुमको पुकारे
Harminder Kaur
समूची दुनिया में
समूची दुनिया में
*Author प्रणय प्रभात*
अय मुसाफिर
अय मुसाफिर
Satish Srijan
सिंदूर की एक चुटकी
सिंदूर की एक चुटकी
डी. के. निवातिया
मेरी सोच मेरे तू l
मेरी सोच मेरे तू l
सेजल गोस्वामी
तत्काल लाभ के चक्कर में कोई ऐसा कार्य नहीं करें, जिसमें धन भ
तत्काल लाभ के चक्कर में कोई ऐसा कार्य नहीं करें, जिसमें धन भ
Paras Nath Jha
🪔🪔जला लो दिया तुम मेरी कमी में🪔🪔
🪔🪔जला लो दिया तुम मेरी कमी में🪔🪔
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
आंगन को तरसता एक घर ....
आंगन को तरसता एक घर ....
ओनिका सेतिया 'अनु '
रवीश कुमार का मज़ाक
रवीश कुमार का मज़ाक
Shekhar Chandra Mitra
मेरे देश की मिट्टी
मेरे देश की मिट्टी
डॉ विजय कुमार कन्नौजे
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
सपनो का सफर संघर्ष लाता है तभी सफलता का आनंद देता है।
पूर्वार्थ
स्वाभिमान से इज़हार
स्वाभिमान से इज़हार
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
होली के रंग
होली के रंग
Anju ( Ojhal )
जज़्बों में अपने शामिल
जज़्बों में अपने शामिल
Dr fauzia Naseem shad
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
तुम करो वैसा, जैसा मैं कहता हूँ
gurudeenverma198
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
*निकला है चाँद द्वार मेरे*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
क्या? किसी का भी सगा, कभी हुआ ज़माना है।
Neelam Sharma
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
एक दिन सफलता मेरे सपनें में आई.
Piyush Goel
अदाकारी
अदाकारी
Suryakant Dwivedi
*राजा राम सिंह चालीसा*
*राजा राम सिंह चालीसा*
Ravi Prakash
बात सीधी थी
बात सीधी थी
Dheerja Sharma
2843.*पूर्णिका*
2843.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
दिल के रिश्ते
दिल के रिश्ते
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
गीत(सोन्ग)
गीत(सोन्ग)
Dushyant Kumar
खेलों का महत्व
खेलों का महत्व
विजय कुमार अग्रवाल
आंख से आंख मिलाओ तो मजा आता है।
आंख से आंख मिलाओ तो मजा आता है।
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...