Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Feb 2023 · 1 min read

भक्ति -गजल

परमात्मा है सबकी आत्मा के ही अंदर ,
जो तू समझे यही बिश्व का सुन्दर दर |
इंसान से भी ज्यादा विश्वाश में शक्ति ,
भगवान बना देगी तुझको ही तेरी भक्ति|
क्यों लूट पे जीता क्यों पाप कमाता है ,
अपनी ही निगाहों में क्यों गिराता है|
बूंद बूंद से बनता कितना विशाल समुन्द्र,
नेक विचारों से ही बनता आचरण मंदिर |
परमात्मा है सबकी आत्मा के ही अंदर.
रेखा मोहन 25/2/23 पंजाब

329 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल /
ग़ज़ल /
ईश्वर दयाल गोस्वामी
#शेर
#शेर
*Author प्रणय प्रभात*
*सुनते हैं नेता-अफसर, अब साँठगाँठ से खाते हैं 【हिंदी गजल/गीत
*सुनते हैं नेता-अफसर, अब साँठगाँठ से खाते हैं 【हिंदी गजल/गीत
Ravi Prakash
बाल कविता : काले बादल
बाल कविता : काले बादल
Rajesh Kumar Arjun
सरस्वती वंदना-2
सरस्वती वंदना-2
डाॅ. बिपिन पाण्डेय
रूठना मनाना
रूठना मनाना
Aman Kumar Holy
* आस्था *
* आस्था *
DR ARUN KUMAR SHASTRI
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
जिनमें बिना किसी विरोध के अपनी गलतियों
Paras Nath Jha
तेरे गम का सफर
तेरे गम का सफर
Rajeev Dutta
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
****अपने स्वास्थ्य से प्यार करें ****
Kavita Chouhan
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
प्यार विश्वाश है इसमें कोई वादा नहीं होता!
Diwakar Mahto
बात जो दिल में है
बात जो दिल में है
Shivkumar Bilagrami
My Guardian Angel
My Guardian Angel
Manisha Manjari
मिले
मिले
DR. Kaushal Kishor Shrivastava
Har roj tumhara wahi intajar karti hu
Har roj tumhara wahi intajar karti hu
Sakshi Tripathi
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
तूफ़ानों से लड़करके, दो पंक्षी जग में रहते हैं।
डॉ. अनिल 'अज्ञात'
आत्मीय मुलाकात -
आत्मीय मुलाकात -
Seema gupta,Alwar
भाई दोज
भाई दोज
Ram Krishan Rastogi
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
लोकतंत्र की आड़ में तानाशाही ?
Shyam Sundar Subramanian
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
कवनो गाड़ी तरे ई चले जिंदगी
आकाश महेशपुरी
जब कोई रिश्ता निभाती हूँ तो
जब कोई रिश्ता निभाती हूँ तो
Dr Manju Saini
आहत न हो कोई
आहत न हो कोई
Dr fauzia Naseem shad
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
अच्छा रहता
अच्छा रहता
Pratibha Pandey
शिलालेख पर लिख दिए, हमने भी कुछ नाम।
शिलालेख पर लिख दिए, हमने भी कुछ नाम।
Suryakant Dwivedi
आपाधापी व्यस्त बहुत हैं दफ़्तर  में  व्यापार में ।
आपाधापी व्यस्त बहुत हैं दफ़्तर में व्यापार में ।
सत्येन्द्र पटेल ‘प्रखर’
रूपमाला
रूपमाला
डॉ.सीमा अग्रवाल
कविता : आँसू
कविता : आँसू
Sushila joshi
गम हमें होगा बहुत
गम हमें होगा बहुत
VINOD CHAUHAN
तुम हो तो मैं हूँ,
तुम हो तो मैं हूँ,
लक्ष्मी सिंह
Loading...