Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

” ब्रह्माण्ड की चेतना “

” ब्रह्माण्ड की चेतना ”
एनर्जी का अहसास होता है मीनू को
जो सबसे अलग लेकिन अपनी सी है
खींचकर मुझको खुद से लपेट लेती
महसूस हुआ कि चेतना ब्रह्माण्ड में है,
पूजा पाठ आराधना तो बहाना सिर्फ
दैवीय शक्ति का कोई आकार नहीं है
सबने निकले अपने अलग अलग रास्ते
सर्वशक्तिमान तो सकारात्मकता में है,
कोई रखे व्रत तो कोई करता मूर्ति पूजा
रब तक जाने के सबके है रास्ते विभिन्न
निज मनुहार मनाने का है तरीका अलग
खिंचाव उस शक्ति का हिस्सा मात्र ही है,
सुख दुःख में मेरे सारे भाव को समझता
मंजिल तक पहुंचने की ताकत मुझे देता
मीनू को तो भाता ब्रह्मांड संग बतियाना
अंतरात्मा का जुड़ाव इसी चेतना से तो है।

Language: English
Tag: Poem
1 Like · 88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Dr Meenu Poonia
View all
You may also like:
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
साहित्यकार ओमप्रकाश वाल्मीकि का रचना संसार।
Dr. Narendra Valmiki
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
हिन्दी हाइकु- शुभ दिपावली
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
तुम मेरी जिन्दगी बन गए हो।
Taj Mohammad
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
🥀 *अज्ञानी की कलम* 🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
खुशनसीबी
खुशनसीबी
DR ARUN KUMAR SHASTRI
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
हर बार नहीं मनाना चाहिए महबूब को
शेखर सिंह
एक शख्स
एक शख्स
Pratibha Pandey
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
परिवर्तन की राह पकड़ो ।
Buddha Prakash
विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल)
विश्व पृथ्वी दिवस (22 अप्रैल)
डॉ.सीमा अग्रवाल
दोहे... चापलूस
दोहे... चापलूस
लक्ष्मीकान्त शर्मा 'रुद्र'
सफ़र है बाकी (संघर्ष की कविता)
सफ़र है बाकी (संघर्ष की कविता)
Dr. Kishan Karigar
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
क्रोधावेग और प्रेमातिरेक पर सुभाषित / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
भूख सोने नहीं देती
भूख सोने नहीं देती
Shweta Soni
#कहमुकरी
#कहमुकरी
Suryakant Dwivedi
होली के मजे अब कुछ खास नही
होली के मजे अब कुछ खास नही
Rituraj shivem verma
सब छोड़कर अपने दिल की हिफाजत हम भी कर सकते है,
सब छोड़कर अपने दिल की हिफाजत हम भी कर सकते है,
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
।। परिधि में रहे......।।
।। परिधि में रहे......।।
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
तेरे सहारे ही जीवन बिता लुंगा
Keshav kishor Kumar
"ये लालच"
Dr. Kishan tandon kranti
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
अर्जुन धुरंधर न सही ...एकलव्य तो बनना सीख लें ..मौन आखिर कब
DrLakshman Jha Parimal
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
अभी दिल भरा नही
अभी दिल भरा नही
Ram Krishan Rastogi
तेरा हम परदेशी, कैसे करें एतबार
तेरा हम परदेशी, कैसे करें एतबार
gurudeenverma198
😊चमचा महात्म्य😊
😊चमचा महात्म्य😊
*Author प्रणय प्रभात*
हम अपनी ज़ात में
हम अपनी ज़ात में
Dr fauzia Naseem shad
स्वतंत्रता सेनानी नीरा आर्य
स्वतंत्रता सेनानी नीरा आर्य
Anil chobisa
সিগারেট নেশা ছিল না
সিগারেট নেশা ছিল না
Sakhawat Jisan
💐प्रेम कौतुक-220💐
💐प्रेम कौतुक-220💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
राम नाम सर्वश्रेष्ठ है,
नील पदम् Deepak Kumar Srivastava (दीपक )(Neel Padam)
समाज के बदलते स्वरूप में आप निवेशक, उत्पादक, वितरक, विक्रेता
समाज के बदलते स्वरूप में आप निवेशक, उत्पादक, वितरक, विक्रेता
Sanjay ' शून्य'
Loading...