Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2024 · 1 min read

बेवकूफ

क्योंकि
बेवकूफ हूँ मै
रख देती हूँ समस्त संवेदनाएँ सामने
जानती हूँ सच्चाई
अहसास भी है ब़ेक़द्र होने का
फिर भी रख देती हूँ
खोलकर मन को
माना इंतज़ार की आदत नहीं मुझको
करती हूँ मगर अंतिम हद तक
फिर आहत होकर
लौट आती है थकी हारी-सी
संवेदनाएँ
क्योंकि नहीं है फितरत
भीड़ में रहने की
वज़ूद को खोकर जीने की
बचा खुचा लेने की
आखिर अहमियत है मेरी भी
देती हूँ रिश्तों में समर्पण
हक़दार भी हूँ पाने की
लड़कर नही लिए जाते सदैव
स्वेच्छा से दिये जाते हैं कुछ
हर बार समेट लेती हूँ
बेकद्र होने से पहले खुद को
क्योंकि स्त्री हूँ
इसलिए बेवकूफ हूँ मैं ।

1 Like · 1 Comment · 108 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
इस तरह छोड़कर भला कैसे जाओगे।
Surinder blackpen
मुहब्बत
मुहब्बत
Dr. Upasana Pandey
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
मन मंथन कर ले एकांत पहर में
Neelam Sharma
"सच की सूरत"
Dr. Kishan tandon kranti
*कभी  प्यार में  कोई तिजारत ना हो*
*कभी प्यार में कोई तिजारत ना हो*
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
फूलों सी मुस्कुराती हुई शान हो आपकी।
फूलों सी मुस्कुराती हुई शान हो आपकी।
Phool gufran
धड़कनें जो मेरी थम भी जाये तो,
धड़कनें जो मेरी थम भी जाये तो,
हिमांशु Kulshrestha
पुनर्जन्माचे सत्य
पुनर्जन्माचे सत्य
Shyam Sundar Subramanian
बेटा
बेटा
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
*जब एक ही वस्तु कभी प्रीति प्रदान करने वाली होती है और कभी द
Shashi kala vyas
बहुतेरा है
बहुतेरा है
Dr. Meenakshi Sharma
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
🥀*अज्ञानी की कलम*🥀
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
■ स्वचलित नहीं, रोबोट पर निर्भर रोबोट।
■ स्वचलित नहीं, रोबोट पर निर्भर रोबोट।
*Author प्रणय प्रभात*
सबसे क़ीमती क्या है....
सबसे क़ीमती क्या है....
Vivek Mishra
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
मैं उसका ही आईना था जहाँ मोहब्बत वो मेरी थी,तो अंदाजा उसे कह
AmanTv Editor In Chief
मौन सभी
मौन सभी
sushil sarna
" मेरी ओकात क्या"
भरत कुमार सोलंकी
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
कुछ खो गया, तो कुछ मिला भी है
Anil Mishra Prahari
आ बैठ मेरे पास मन
आ बैठ मेरे पास मन
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
गीत।। रूमाल
गीत।। रूमाल
Shiva Awasthi
रामलला
रामलला
Saraswati Bajpai
*मुंडी लिपि : बहीखातों की प्राचीन लिपि*
*मुंडी लिपि : बहीखातों की प्राचीन लिपि*
Ravi Prakash
तू बदल गईलू
तू बदल गईलू
Shekhar Chandra Mitra
निकला वीर पहाड़ चीर💐
निकला वीर पहाड़ चीर💐
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
तब गाँव हमे अपनाता है
तब गाँव हमे अपनाता है
संजय कुमार संजू
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
कोई इंसान अगर चेहरे से खूबसूरत है
ruby kumari
ओम् के दोहे
ओम् के दोहे
ओमप्रकाश भारती *ओम्*
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
शे’र/ MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
23/180.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/180.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
तेरा - मेरा
तेरा - मेरा
Ramswaroop Dinkar
Loading...