Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
3 Jun 2018 · 1 min read

बेटी

???बेटी???

बेटियाँ घर की लक्ष्मी, बेटी है भगवान।
बिन बेटी संसार में,नहीं कोई धनवान।।
नहीं कोई धनवान , न लक्ष्मी आये घर में।
आये भी गर भूल, रूकें न जायें क्षण में।
आये नहीं अभाव , भरी हो घर की पेटियां।
जिसके आंगन नित्य, सुख से रहतीं बेटियाँ।।
…………..
✍✍ पं.संजीव शुक्ल “सचिन”

215 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from संजीव शुक्ल 'सचिन'
View all
You may also like:
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह ✍️
शेखर सिंह
उसका शुक्र कितना भी करूँ
उसका शुक्र कितना भी करूँ
shabina. Naaz
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी  !
सब गुण संपन्य छी मुदा बहिर बनि अपने तालें नचैत छी !
DrLakshman Jha Parimal
कटु दोहे
कटु दोहे
Suryakant Dwivedi
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
विक्रमादित्य के बत्तीस गुण
Vijay Nagar
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
जिस चीज को किसी भी मूल्य पर बदला नहीं जा सकता है,तो उसको सहन
Paras Nath Jha
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
पुकारती है खनकती हुई चूड़ियाँ तुमको।
Neelam Sharma
******** प्रेम भरे मुक्तक *********
******** प्रेम भरे मुक्तक *********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
व्यापार नहीं निवेश करें
व्यापार नहीं निवेश करें
Sanjay ' शून्य'
कभी उसकी कदर करके देखो,
कभी उसकी कदर करके देखो,
पूर्वार्थ
खुशनसीब
खुशनसीब
Bodhisatva kastooriya
"आंधी की तरह आना, तूफां की तरह जाना।
*प्रणय प्रभात*
तेरी धरा मैं हूँ
तेरी धरा मैं हूँ
Sunanda Chaudhary
अधूरी सी ज़िंदगी   ....
अधूरी सी ज़िंदगी ....
sushil sarna
गरिबी र अन्याय
गरिबी र अन्याय
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
गाँव कुछ बीमार सा अब लग रहा है
Pt. Brajesh Kumar Nayak
हमेशा समय के साथ चलें,
हमेशा समय के साथ चलें,
नेताम आर सी
Only attraction
Only attraction
Bidyadhar Mantry
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
किताबों में तुम्हारे नाम का मैं ढूँढता हूँ माने
आनंद प्रवीण
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
दोहा समीक्षा- राजीव नामदेव राना लिधौरी
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
दिल से दिल गर नहीं मिलाया होली में।
सत्य कुमार प्रेमी
मेरी हास्य कविताएं अरविंद भारद्वाज
मेरी हास्य कविताएं अरविंद भारद्वाज
अरविंद भारद्वाज
"आत्मदाह"
Dr. Kishan tandon kranti
कमल खिल चुका है ,
कमल खिल चुका है ,
ओनिका सेतिया 'अनु '
वो सौदा भी होगा इक रोज़,
वो सौदा भी होगा इक रोज़,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
2434.पूर्णिका
2434.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
आता है उनको मजा क्या
आता है उनको मजा क्या
gurudeenverma198
*करता है मस्तिष्क ही, जग में सारे काम (कुंडलिया)*
*करता है मस्तिष्क ही, जग में सारे काम (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
मोहमाया के जंजाल में फंसकर रह गया है इंसान
मोहमाया के जंजाल में फंसकर रह गया है इंसान
Rekha khichi
इतनी उम्मीदें
इतनी उम्मीदें
Dr fauzia Naseem shad
Loading...