Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Jun 2019 · 1 min read

बेटी से ही संसार

वेदों ने रचना कर डाली ।
स्वर्ण मयी आभा सी वो ।।
निर्मल गंगा बहती आयी ।
वसुधा के धरातल को ।।
स्वर्णमयी हो गया है युग ।
सृष्टि की रचना कर डाली ।।
प्रस्फुटित हो जाएगा जग ।
जगकर्त्ता ने बेटी रच डाली ।।१।।
आ गयी चेतना चेतन को ।
वेदों को उसने पढ़ डाला ।।
सृष्टि चल सके आगे को ।
उसने पुरुषतत्व जन्म डाला ।।
धीरे धीरे आगे चल के ।
सृष्टि संपूर्ण उसने रच डाली ।।
ये ममता ही तो थी उसकी ।
उसने सृष्टि सुखों से भर डाली ।।२।।
आज कैसा निर्दयी सयोंग ।
आभा रोती ममता वियोग ।।
भ्रूण रूप धरे गर्भ में जो ।
वहाँ हत्या का बन जाता योग ।।
कैसे विचरण करेगी सृष्टि फिर ।
या सब कुछ रुक जाएगा ।।
बिन बेटी के इस सृष्टि का ।
कार्यकाल थम जाएगा ।।३।।
काल को ना निमंत्रण दो ।
जो सब कुछ कर सकता हो ।।
जिसने आभा को रच डाला ।
उस सृष्टि करता को दुःख ना दो ।।
सृष्टि शून्य हो जाएगी ।
और सब कुछ मिट जाएगा ।।
रचनाकर्ता की रचना पे ।
जब हस्तक्षेप हो जाएगा ।।४।।
उठकर जागो हे मानव ।
खत्म करो मन के दानव ।।
बुद्धि को प्रबल करो ।
सृष्टि का सृजन करो ।।
इस जीव जगत में प्रेम सीखा दो ।
और सीखा दो ममता के गुण ।।
बेटी से ही जन्म होता है ।
नव प्रकाश के नव नव गुण ।।५।।

लेखक- प्रकाश चंद्र जुयाल
कविप्रकाश

Language: Hindi
Tag: गीत
6 Likes · 4 Comments · 824 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from प्रकाश जुयाल 'मुकेश'
View all
You may also like:
मुड़े पन्नों वाली किताब
मुड़े पन्नों वाली किताब
Surinder blackpen
दो जून की रोटी
दो जून की रोटी
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"वक्त वक्त की बात"
Pushpraj Anant
लफ्ज़ों की जिद्द है कि
लफ्ज़ों की जिद्द है कि
Shwet Kumar Sinha
संवेदनापूर्ण जीवन हो जिनका 🌷
संवेदनापूर्ण जीवन हो जिनका 🌷
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
*आए दिन त्योहार के, मस्ती और उमंग (कुंडलिया)*
*आए दिन त्योहार के, मस्ती और उमंग (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
जीवन दर्शन मेरी नजर से ...
Satya Prakash Sharma
कहना क्या
कहना क्या
Awadhesh Singh
!............!
!............!
शेखर सिंह
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
हमारी राष्ट्रभाषा हिन्दी
Mukesh Kumar Sonkar
जी रहे है तिरे खयालों में
जी रहे है तिरे खयालों में
Rashmi Ranjan
जीवन का सम्बल
जीवन का सम्बल
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
हिंदी - दिवस
हिंदी - दिवस
Ramswaroop Dinkar
रंगमंच कलाकार तुलेंद्र यादव जीवन परिचय
रंगमंच कलाकार तुलेंद्र यादव जीवन परिचय
Tulendra Yadav
विश्व जनसंख्या दिवस
विश्व जनसंख्या दिवस
Bodhisatva kastooriya
"काश"
Dr. Kishan tandon kranti
किसी मुस्क़ान की ख़ातिर ज़माना भूल जाते हैं
किसी मुस्क़ान की ख़ातिर ज़माना भूल जाते हैं
आर.एस. 'प्रीतम'
Dr Arun Kumar shastri
Dr Arun Kumar shastri
DR ARUN KUMAR SHASTRI
"A Dance of Desires"
Manisha Manjari
कौन्तय
कौन्तय
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
23/88.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/88.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
मुक्तक ....
मुक्तक ....
Neelofar Khan
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
खवाब है तेरे तु उनको सजालें
Swami Ganganiya
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
ये शास्वत है कि हम सभी ईश्वर अंश है। परंतु सबकी परिस्थितियां
Sanjay ' शून्य'
आम की गुठली
आम की गुठली
Seema gupta,Alwar
देना और पाना
देना और पाना
Sandeep Pande
"इस्राइल -गाज़ा युध्य
DrLakshman Jha Parimal
कल जो रहते थे सड़क पर
कल जो रहते थे सड़क पर
Meera Thakur
पुस्तक विमर्श (समीक्षा )-
पुस्तक विमर्श (समीक्षा )- " साये में धूप "
डॉक्टर वासिफ़ काज़ी
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
सुनो पहाड़ की....!!! (भाग - ७)
Kanchan Khanna
Loading...