Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
4 Feb 2024 · 1 min read

बेटी को पंख के साथ डंक भी दो

“बेटियों को तितली नहीं मधुमक्खी बनाओ,पंख जरूर दो पर ,
साथ में डंक भी दो।”
:राकेश देवडे़ बिरसावादी

Language: Hindi
1 Like · 88 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
Happy Father's Day
Happy Father's Day
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
बेवजह किसी पे मरता कौन है
बेवजह किसी पे मरता कौन है
Kumar lalit
ओस
ओस
पूनम कुमारी (आगाज ए दिल)
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
दिल को सिर्फ तेरी याद ही , क्यों आती है हरदम
gurudeenverma198
साइस और संस्कृति
साइस और संस्कृति
Bodhisatva kastooriya
बदनाम शराब
बदनाम शराब
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
Exhibition
Exhibition
Bikram Kumar
तिरंगा
तिरंगा
Neeraj Agarwal
प्रकृति का प्रकोप
प्रकृति का प्रकोप
Kanchan verma
संदेश बिन विधा
संदेश बिन विधा
Mahender Singh
होली पर बस एक गिला।
होली पर बस एक गिला।
सत्य कुमार प्रेमी
गाली / मुसाफिर BAITHA
गाली / मुसाफिर BAITHA
Dr MusafiR BaithA
अवधी गीत
अवधी गीत
प्रीतम श्रावस्तवी
■ आज का अनूठा शेर।
■ आज का अनूठा शेर।
*प्रणय प्रभात*
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
यादों से कह दो न छेड़ें हमें
sushil sarna
बेटियां
बेटियां
Mukesh Kumar Sonkar
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
मैं कहना भी चाहूं उनसे तो कह नहीं सकता
Mr.Aksharjeet
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
वक्त के शतरंज का प्यादा है आदमी
सिद्धार्थ गोरखपुरी
3528.🌷 *पूर्णिका*🌷
3528.🌷 *पूर्णिका*🌷
Dr.Khedu Bharti
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
जिंदगी की राह आसान नहीं थी....
Ashish shukla
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
प्रकृति में एक अदृश्य शक्ति कार्य कर रही है जो है तुम्हारी स
Rj Anand Prajapati
" जल "
Dr. Kishan tandon kranti
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
ए कुदरत के बंदे ,तू जितना तन को सुंदर रखे।
Shutisha Rajput
बुंदेली दोहा- चंपिया
बुंदेली दोहा- चंपिया
राजीव नामदेव 'राना लिधौरी'
चुनाव का मौसम
चुनाव का मौसम
Dr. Pradeep Kumar Sharma
पसंद प्यार
पसंद प्यार
Otteri Selvakumar
ये दौलत ये नफरत ये मोहब्बत हो गई
ये दौलत ये नफरत ये मोहब्बत हो गई
VINOD CHAUHAN
गुरूर चाँद का
गुरूर चाँद का
Satish Srijan
इतने दिनों के बाद
इतने दिनों के बाद
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
ग़ज़ल सगीर
ग़ज़ल सगीर
डॉ सगीर अहमद सिद्दीकी Dr SAGHEER AHMAD
Loading...