Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
25 Sep 2022 · 1 min read

बेटियां

खुदा की इनायत होती है बेटियां
ईश्वर का वरदान होती है बेटियां
जिसके घर पर नहीं होती
उसकी फरियाद होती है बेटियां

जीवन का आधार होती है बेटियां
प्यार का सार होती है बेटियां
इस वृहद संसार में, स्वयं में ही
एक छोटा सा संसार होती है बेटियां

खुशियों से भर देती है उसको
जिस घर में जन्म लेती है बेटियां
लक्ष्मी बनकर शादी के बाद
ससुराल में खुशियां बांटती है बेटियां

मां की दुलारी होती है बेटियां
पिता की लाडली होती है बेटियां
लड़ती भी है प्यार भी करती है
बहन बनकर और भी प्यारी होती है बेटियां

जीवन गुलशन तो गुल है बेटियां
जीवन रंग है तो इंद्रधनुष है बेटियां
हो पहाड़ या मैदान हर जगह सहज
बहते दरिया का जल है बेटियां

अब वो दिन गए जब घर की
चार दिवारी में ही रहती थी बेटियां
जमीं हो या हो फिर आसमान
आज अपनी राह खुद बनाती है बेटियां

Language: Hindi
9 Likes · 1011 Views
You may also like:
✍️कालचक्र✍️
'अशांत' शेखर
।। मेरे तात ।।
Akash Yadav
*आया सूरज खिल उठा, धरती का नव-गात (कुंडलियां)*
Ravi Prakash
खुशियों भरे पल
surenderpal vaidya
रहे इहाँ जब छोटकी रेल
आकाश महेशपुरी
पुनर्पाठ : एक वर्षगाँठ
ज्ञानीचोर ज्ञानीचोर
*** " वक़्त : ठहर जरा.. साथ चलते हैं....! "...
VEDANTA PATEL
मां शारदे को नमन
bharat gehlot
मुल्क के दुश्मन
Shekhar Chandra Mitra
मैं तुझको इश्क कर रहा हूं।
Taj Mohammad
कौन हिसाब रखे
Kaur Surinder
कविता संग्रह
श्याम सिंह बिष्ट
सौ बात की एक
Dr.sima
✍️न जाने वो कौन से गुनाहों की सज़ा दे रहा...
Vaishnavi Gupta (Vaishu)
बाबासाहेब 'अंबेडकर '
Buddha Prakash
साजिश अपने ही रचते हैं
gurudeenverma198
तेरा एहसास
Dr fauzia Naseem shad
मैं कुछ कहना चाहता हूं
सुरेन्द्र शर्मा 'शिव'
लुटेरों का सरदार
डॉ प्रवीण कुमार श्रीवास्तव, प्रेम
कारण के आगे कारण
सूर्यकांत द्विवेदी
ढाई आखर प्रेम का
श्री रमण 'श्रीपद्'
यह दिल
Anamika Singh
शहीदों का यशगान
शेख़ जाफ़र खान
अभी अभी की बात है
कवि दीपक बवेजा
मुस्की दे, प्रेमानुकरण कर लेता हूँ
Pt. Brajesh Kumar Nayak
आखिरी पड़ाव
DESH RAJ
राष्ट्रमंडल खेल- 2022
Deepak Kohli
हनुमंता
Dhirendra Panchal
लोग कहते हैं कैसा आदमी हूं।
सत्य कुमार प्रेमी
भोर का नवगीत / (नवगीत)
ईश्वर दयाल गोस्वामी
Loading...