Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
30 Jan 2017 · 1 min read

बेटियां

* गीत *
(तर्ज- न हम बेवफ़ा हैं न ……)

कम बेटियाँ हैं, नम बेटियाँ हैं…
ईश्वरका सब पर,करम बेटियाँ हैं…

1-बेटी तो रौनक होती है घर की।
रंगत है बिटिया माँकी नज़र की।।
अपने पिता का भरम बेटियाँ है…कम..

2-होती है बेटी सीधी व सच्ची।
बेटे से हर शय बेटी है अच्छी।।
बेटे जखम तो मल्हम बेटियाँ हैं…कम..

3-सारे जहाँ की आभा समेटी।
तब जाके रबने बनाई है बेटी।।
“शैलेन्द्र”दुनिया का दम बेटियाँ हैं..कम..

~शैलेन्द्र खरे”सोम”

633 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
ग़ज़ल (रखो हौंसला फ़िर न डर है यहाँ)
ग़ज़ल (रखो हौंसला फ़िर न डर है यहाँ)
डॉक्टर रागिनी
■ आज का निवेदन...।।
■ आज का निवेदन...।।
*प्रणय प्रभात*
शुक्रिया कोरोना
शुक्रिया कोरोना
Dr. Pradeep Kumar Sharma
" एक थी बुआ भतेरी "
Dr Meenu Poonia
तेरा हम परदेशी, कैसे करें एतबार
तेरा हम परदेशी, कैसे करें एतबार
gurudeenverma198
2648.पूर्णिका
2648.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
कौन है वो ?
कौन है वो ?
Rachana
विश्व पर्यावरण दिवस
विश्व पर्यावरण दिवस
Neeraj Agarwal
अपनों के बीच रहकर
अपनों के बीच रहकर
पूर्वार्थ
कल और आज जीनें की आस
कल और आज जीनें की आस
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
मूर्ख बनाकर काक को, कोयल परभृत नार।
डॉ.सीमा अग्रवाल
"खाली हाथ"
Dr. Kishan tandon kranti
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
दरोगवा / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
जी लगाकर ही सदा
जी लगाकर ही सदा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
नाम लिख तो दिया और मिटा भी दिया
SHAMA PARVEEN
आलता महावर
आलता महावर
Pakhi Jain
कहूँ तो कैसे कहूँ -
कहूँ तो कैसे कहूँ -
Dr Mukesh 'Aseemit'
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत  माँगे ।
आईना मुझसे मेरी पहली सी सूरत माँगे ।
Neelam Sharma
हिन्दी पर विचार
हिन्दी पर विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
मुक़्तज़ा-ए-फ़ितरत
Shyam Sundar Subramanian
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
बावजूद टिमकती रोशनी, यूं ही नहीं अंधेरा करते हैं।
ओसमणी साहू 'ओश'
आकर्षण गति पकड़ता है और क्षण भर ठहरता है
आकर्षण गति पकड़ता है और क्षण भर ठहरता है
शेखर सिंह
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
धन जमा करने की प्रवृत्ति मनुष्य को सदैव असंतुष्ट ही रखता है।
Paras Nath Jha
Tumhari sasti sadak ki mohtaz nhi mai,
Tumhari sasti sadak ki mohtaz nhi mai,
Sakshi Tripathi
हे परमपिता मिले हमसफ़र जो हर इक सफ़र में भी साथ दे।
हे परमपिता मिले हमसफ़र जो हर इक सफ़र में भी साथ दे।
सत्य कुमार प्रेमी
🌻 गुरु चरणों की धूल🌻
🌻 गुरु चरणों की धूल🌻
जूनियर झनक कैलाश अज्ञानी झाँसी
यादों का थैला लेकर चले है
यादों का थैला लेकर चले है
Harminder Kaur
संन्यास के दो पक्ष हैं
संन्यास के दो पक्ष हैं
हिमांशु Kulshrestha
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
जिंदगी बहुत ही छोटी है मेरे दोस्त
कृष्णकांत गुर्जर
जिंदगी हमने जी कब,
जिंदगी हमने जी कब,
Umender kumar
Loading...