Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
18 Apr 2024 · 1 min read

बेजुबाँ सा है इश्क़ मेरा,

बेजुबाँ सा है इश्क़ मेरा,
कभी मेरे आंखों में पढ़ लेना,
जो इज़हार हम कर नही पाते,
उसे मेरे लफ़्ज़ों में समझ लेना

32 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
स्वीकार्यता समर्पण से ही संभव है, और यदि आप नाटक कर रहे हैं
स्वीकार्यता समर्पण से ही संभव है, और यदि आप नाटक कर रहे हैं
Sanjay ' शून्य'
हिस्से की धूप
हिस्से की धूप
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
"विदाई की बेला में"
Dr. Kishan tandon kranti
#OMG
#OMG
*प्रणय प्रभात*
2747. *पूर्णिका*
2747. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
अजीब शख्स था...
अजीब शख्स था...
हिमांशु Kulshrestha
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
अब बहुत हुआ बनवास छोड़कर घर आ जाओ बनवासी।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
हिन्दी ग़ज़़लकारों की अंधी रति + रमेशराज
हिन्दी ग़ज़़लकारों की अंधी रति + रमेशराज
कवि रमेशराज
मेरे भी दिवाने है
मेरे भी दिवाने है
Pratibha Pandey
प्रेरणा
प्रेरणा
पूर्वार्थ
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
हुस्न और खूबसूरती से भरे हुए बाजार मिलेंगे
शेखर सिंह
" वतन "
भगवती प्रसाद व्यास " नीरद "
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
सुलगती आग हूॅ॑ मैं बुझी हुई राख ना समझ
VINOD CHAUHAN
__सुविचार__
__सुविचार__
विनोद कृष्ण सक्सेना, पटवारी
आंखों में
आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
चाँद और इन्सान
चाँद और इन्सान
Kanchan Khanna
अभिव्यक्ति
अभिव्यक्ति
Punam Pande
नारी का क्रोध
नारी का क्रोध
लक्ष्मी सिंह
व्यंग्य कविता-
व्यंग्य कविता- "गणतंत्र समारोह।" आनंद शर्मा
Anand Sharma
प्यार को शब्दों में ऊबारकर
प्यार को शब्दों में ऊबारकर
Rekha khichi
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
पवित्र होली का पर्व अपने अद्भुत रंगों से
डा. सूर्यनारायण पाण्डेय
शिक्षा ही जीवन है
शिक्षा ही जीवन है
SHAMA PARVEEN
इश्क़ का माया जाल बिछा रही है ये दुनिया,
इश्क़ का माया जाल बिछा रही है ये दुनिया,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
पापा
पापा
Lovi Mishra
तुम यह अच्छी तरह जानते हो
तुम यह अच्छी तरह जानते हो
gurudeenverma198
विचार
विचार
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
*आई वर्षा खिल उठा ,धरती का हर अंग(कुंडलिया)*
*आई वर्षा खिल उठा ,धरती का हर अंग(कुंडलिया)*
Ravi Prakash
नज़रों में तेरी झाँकूँ तो, नज़ारे बाहें फैला कर बुलाते हैं।
नज़रों में तेरी झाँकूँ तो, नज़ारे बाहें फैला कर बुलाते हैं।
Manisha Manjari
मजा आता है पीने में
मजा आता है पीने में
Basant Bhagawan Roy
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
दर्द व्यक्ति को कमजोर नहीं बल्कि मजबूत बनाती है और साथ ही मे
Rj Anand Prajapati
Loading...