Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
12 Jul 2023 · 1 min read

बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में…

बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में…
~राज सबके होते हैं~
किसी के छुप जाते हैं, किसी के छप जाते हैं!
🙏🙏🙏

1 Like · 195 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
जिंदगी का मुसाफ़िर
जिंदगी का मुसाफ़िर
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
*कृपा प्रभु की है जो सॉंसों का, क्रम हर क्षण चलाते हैं (मुक्
*कृपा प्रभु की है जो सॉंसों का, क्रम हर क्षण चलाते हैं (मुक्
Ravi Prakash
'Here's the tale of Aadhik maas..' (A gold winning poem)
'Here's the tale of Aadhik maas..' (A gold winning poem)
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
नवम दिवस सिद्धिधात्री,सब पर रहो प्रसन्न।
नवम दिवस सिद्धिधात्री,सब पर रहो प्रसन्न।
Neelam Sharma
*भीड बहुत है लोग नहीं दिखते* ( 11 of 25 )
*भीड बहुत है लोग नहीं दिखते* ( 11 of 25 )
Kshma Urmila
पेड़ - बाल कविता
पेड़ - बाल कविता
Kanchan Khanna
Honesty ki very crucial step
Honesty ki very crucial step
Sakshi Tripathi
जपू नित राधा - राधा नाम
जपू नित राधा - राधा नाम
Basant Bhagawan Roy
अधूरी ख्वाहिशें
अधूरी ख्वाहिशें
Dr. Ramesh Kumar Nirmesh
मेरे हिस्से सब कम आता है
मेरे हिस्से सब कम आता है
सिद्धार्थ गोरखपुरी
*तुम अगर साथ होते*
*तुम अगर साथ होते*
Shashi kala vyas
अपनी बेटी को
अपनी बेटी को
gurudeenverma198
चलो
चलो
हिमांशु Kulshrestha
"जीवन का सफर"
Dr. Kishan tandon kranti
पास है दौलत का समंदर,,,
पास है दौलत का समंदर,,,
Taj Mohammad
अपना ख्याल रखियें
अपना ख्याल रखियें
Dr Shweta sood
बनावटी दुनिया मोबाईल की
बनावटी दुनिया मोबाईल की"
Dr Meenu Poonia
सुप्रभात
सुप्रभात
Arun B Jain
*हुस्न से विदाई*
*हुस्न से विदाई*
Dushyant Kumar
💐अज्ञात के प्रति-69💐
💐अज्ञात के प्रति-69💐
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
मेरे भईया
मेरे भईया
Dr fauzia Naseem shad
हमारी तुम्हारी मुलाकात
हमारी तुम्हारी मुलाकात
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
रमेशराज के पर्यावरण-सुरक्षा सम्बन्धी बालगीत
कवि रमेशराज
तेरे संग मैंने
तेरे संग मैंने
लक्ष्मी सिंह
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
जब उम्र कुछ कर गुजरने की होती है
Harminder Kaur
(9) डूब आया मैं लहरों में !
(9) डूब आया मैं लहरों में !
Kishore Nigam
बातों - बातों में छिड़ी,
बातों - बातों में छिड़ी,
sushil sarna
3250.*पूर्णिका*
3250.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
बहुत दिनों के बाद दिल को फिर सुकून मिला।
बहुत दिनों के बाद दिल को फिर सुकून मिला।
Prabhu Nath Chaturvedi "कश्यप"
■ कोई तो बताओ यार...?
■ कोई तो बताओ यार...?
*Author प्रणय प्रभात*
Loading...