Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
8 Mar 2024 · 1 min read

बूढ़ी माँ …..

बूढ़ी माँ …

अपनी आँखों से
गिरते खारे जल को
अपनी फटी पुरानी साड़ी के
पल्लू से
बार- बार पौंछती
फिर पढ़ती
गोद में रखी रामायण को
बूढ़ी माँ

व्यथित नहीं थी वो
राम के बनवास जाने से
व्यथित थी वो
अपने बिछुड़े बेटे के ग़म से
जिसका ख़त आये
ज़माना बीत गया
चूल्हा रोज जलता
उसके नाम की
रोटी भी रोज बनती
रोज उसे खिलाने की प्रतीक्षा में
रोटी हाथ में लिए लिए
सो जाती
बूढ़ी माँ

राम की रामायण में
राम लौट आया था
जाने मेरा राम कब लौटेगा
लौटेगा भी या नहीं
या फिर लौटेगा तो
इस प्रतीक्षा करती
कौशल्या के
चले जाने के बाद
यही सोचती
रामायण में डूबी
कभी
गीली आँखों से
धुंधले अक्षरों को पढ़ती
तो कभी
खुले द्वार पर
अपनी श्वास और
प्रतीक्षा की दूरी को मिटाती
अधमुंदी आँखों में
सो जाती
बूढ़ी माँ

सुशील सरना/8-3-24

48 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
2892.*पूर्णिका*
2892.*पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
एक दिन आना ही होगा🌹🙏
एक दिन आना ही होगा🌹🙏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
बेटियाँ
बेटियाँ
डॉ०छोटेलाल सिंह 'मनमीत'
"इंसानियत"
Dr. Kishan tandon kranti
मेरी फितरत ही बुरी है
मेरी फितरत ही बुरी है
VINOD CHAUHAN
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
स्वर्ग से सुंदर मेरा भारत
Mukesh Kumar Sonkar
दिल
दिल
Dr Archana Gupta
ग़ज़ल
ग़ज़ल
Neelam Sharma
********* हो गया चाँद बासी ********
********* हो गया चाँद बासी ********
सुखविंद्र सिंह मनसीरत
धरती करें पुकार
धरती करें पुकार
नूरफातिमा खातून नूरी
" भाषा क जटिलता "
DrLakshman Jha Parimal
किस-किस को समझाओगे
किस-किस को समझाओगे
शिव प्रताप लोधी
उजालों में अंधेरों में, तेरा बस साथ चाहता हूँ
उजालों में अंधेरों में, तेरा बस साथ चाहता हूँ
डॉ. दीपक मेवाती
मस्ती को क्या चाहिए ,मन के राजकुमार( कुंडलिया )
मस्ती को क्या चाहिए ,मन के राजकुमार( कुंडलिया )
Ravi Prakash
मेरा भूत
मेरा भूत
हिमांशु Kulshrestha
*शिवाजी का आह्वान*
*शिवाजी का आह्वान*
कवि अनिल कुमार पँचोली
गुरु अंगद देव
गुरु अंगद देव
कवि रमेशराज
आंखों में नींद आती नही मुझको आजकल
आंखों में नींद आती नही मुझको आजकल
कृष्णकांत गुर्जर
निर्णायक स्थिति में
निर्णायक स्थिति में
*Author प्रणय प्रभात*
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
।। बुलबुले की भांति हैं ।।
Aryan Raj
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
महिलाएं जितना तेजी से रो सकती है उतना ही तेजी से अपने भावनाओ
Rj Anand Prajapati
!............!
!............!
शेखर सिंह
मोहब्बत
मोहब्बत
Dinesh Kumar Gangwar
इंतजार
इंतजार
Pratibha Pandey
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
महफिल में तनहा जले, खूब हुए बदनाम ।
sushil sarna
खुदकुशी नहीं, इंक़लाब करो
खुदकुशी नहीं, इंक़लाब करो
Shekhar Chandra Mitra
★मां का प्यार★
★मां का प्यार★
★ IPS KAMAL THAKUR ★
नारी- स्वरूप
नारी- स्वरूप
Buddha Prakash
पापा का संघर्ष, वीरता का प्रतीक,
पापा का संघर्ष, वीरता का प्रतीक,
Sahil Ahmad
याद आया मुझको बचपन मेरा....
याद आया मुझको बचपन मेरा....
Harminder Kaur
Loading...