Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
6 Mar 2024 · 1 min read

बूँद बूँद याद

बूँद बूँद याद
टपकती रही रात भर
ज़ेहन में जमीं बर्फ़ से
तन – मन गीला हो गया

सीलन सी भर गयी
कमरे में हर तरफ़
साँसें रुक गईं हैं
तेरे बेरुख़ी के गंध से

. . . . . . . अतुल “कृष्ण”

73 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
Books from Atul "Krishn"
View all
You may also like:
23/128.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
23/128.*छत्तीसगढ़ी पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
आकर्षण मृत्यु का
आकर्षण मृत्यु का
Shaily
कलियुग के प्रथम चरण का आरंभ देखिये
कलियुग के प्रथम चरण का आरंभ देखिये
सुशील मिश्रा ' क्षितिज राज '
डर
डर
अखिलेश 'अखिल'
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
थोड़ा सा अजनबी बन कर रहना तुम
शेखर सिंह
सच सच कहना
सच सच कहना
Surinder blackpen
वीर-स्मृति स्मारक
वीर-स्मृति स्मारक
Kanchan Khanna
💐 *दोहा निवेदन*💐
💐 *दोहा निवेदन*💐
भवानी सिंह धानका 'भूधर'
उसने आंखों में
उसने आंखों में
Dr fauzia Naseem shad
उस रावण को मारो ना
उस रावण को मारो ना
VINOD CHAUHAN
किसी से प्यार, हमने भी किया था थोड़ा - थोड़ा
किसी से प्यार, हमने भी किया था थोड़ा - थोड़ा
The_dk_poetry
"चाँद को देखकर"
Dr. Kishan tandon kranti
रम्भा की मी टू
रम्भा की मी टू
Dr. Pradeep Kumar Sharma
इस जीवन के मधुर क्षणों का
इस जीवन के मधुर क्षणों का
Shweta Soni
"निखार" - ग़ज़ल
Dr. Asha Kumar Rastogi M.D.(Medicine),DTCD
छोटे दिल वाली दुनिया
छोटे दिल वाली दुनिया
ओनिका सेतिया 'अनु '
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
एक अलग सी चमक है उसके मुखड़े में,
manjula chauhan
रहता धन अक्षय कहाँ, सोना-चाँदी-नोट( कुंडलिया)
रहता धन अक्षय कहाँ, सोना-चाँदी-नोट( कुंडलिया)
Ravi Prakash
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
New light emerges from the depths of experiences, - Desert Fellow Rakesh Yadav
Desert fellow Rakesh
परिवार
परिवार
Neeraj Agarwal
एतबार
एतबार
Davina Amar Thakral
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
वक़्त वो सबसे ही जुदा होगा
वक़्त वो सबसे ही जुदा होगा
महावीर उत्तरांचली • Mahavir Uttranchali
महामना फुले बजरिए हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
महामना फुले बजरिए हाइकु / मुसाफ़िर बैठा
Dr MusafiR BaithA
Mere shaksiyat  ki kitab se ab ,
Mere shaksiyat ki kitab se ab ,
Sakshi Tripathi
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
विद्यार्थी को तनाव थका देता है पढ़ाई नही थकाती
पूर्वार्थ
सुनो प्रियमणि!....
सुनो प्रियमणि!....
Santosh Soni
जो कायर अपनी गली में दुम हिलाने को राज़ी नहीं, वो खुले मैदान
जो कायर अपनी गली में दुम हिलाने को राज़ी नहीं, वो खुले मैदान
*Author प्रणय प्रभात*
ज़िंदगी के सौदागर
ज़िंदगी के सौदागर
Shyam Sundar Subramanian
बिन चाहे गले का हार क्यों बनना
बिन चाहे गले का हार क्यों बनना
Keshav kishor Kumar
Loading...