Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
17 Jan 2024 · 1 min read

बुढ़ापा

बुढ़ापा

ना अभिलाषा मन की पूरी, ना प्रयास करो अपने मन को.
संसार में मोल जवानी का, अब कुर्बान करो अपने तन को..
खेले कूदे खाये जीभर, मात-पिता के शासन में.
भुगतत रहें तड़पते मन को, अब अपने ही आंगन में..
देख दशा अपने तन की, अब बेचैनी होती हैं.
क्यों था अब तक धोखे में, ऐसी ही दुनियां होती हैं. .
बूढ़ा तन टूटा मन, ऐसा ही क्यों अक्सर होता हैं.
जीवन तो आना जाना नित, फिर अहसास क्यों नहीं होता हैं. .
ना अभिलाषा मन की पूरी, ना प्रयास करो अपने मन को.
संसार में मोल जवानी का, अब कुर्बान करो अपने तन को..

103 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"फितरत"
Ekta chitrangini
प्रिय-प्रतीक्षा
प्रिय-प्रतीक्षा
Kanchan Khanna
*भारत माता को किया, किसने लहूलुहान (कुंडलिया)*
*भारत माता को किया, किसने लहूलुहान (कुंडलिया)*
Ravi Prakash
प्राप्त हो जिस रूप में
प्राप्त हो जिस रूप में
Dr fauzia Naseem shad
"किन्नर"
Dr. Kishan tandon kranti
तेरे संग एक प्याला चाय की जुस्तजू रखता था
तेरे संग एक प्याला चाय की जुस्तजू रखता था
VINOD CHAUHAN
2410.पूर्णिका
2410.पूर्णिका
Dr.Khedu Bharti
*जिंदगी के अनोखे रंग*
*जिंदगी के अनोखे रंग*
Harminder Kaur
बात मेरी मान लो - कविता
बात मेरी मान लो - कविता
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
हाथ की उंगली😭
हाथ की उंगली😭
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
लिखते दिल के दर्द को
लिखते दिल के दर्द को
पूर्वार्थ
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
गया दौरे-जवानी गया गया तो गया
shabina. Naaz
जीत मनु-विधान की / MUSAFIR BAITHA
जीत मनु-विधान की / MUSAFIR BAITHA
Dr MusafiR BaithA
दोहा
दोहा
गुमनाम 'बाबा'
ख्वाहिशों के बोझ मे, उम्मीदें भी हर-सम्त हलाल है;
ख्वाहिशों के बोझ मे, उम्मीदें भी हर-सम्त हलाल है;
manjula chauhan
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
शहीदे आजम भगत सिंह की जीवन यात्रा
Ravi Yadav
शुद्ध
शुद्ध
Dr.Priya Soni Khare
सिंदूर 🌹
सिंदूर 🌹
Ranjeet kumar patre
श्री राम भजन
श्री राम भजन
Khaimsingh Saini
#दोहा
#दोहा
*Author प्रणय प्रभात*
नींद कि नजर
नींद कि नजर
नंदलाल मणि त्रिपाठी पीताम्बर
आदित्य(सूरज)!
आदित्य(सूरज)!
Abhinay Krishna Prajapati-.-(kavyash)
*शिकायतें तो बहुत सी है इस जिंदगी से ,परंतु चुप चाप मौन रहकर
*शिकायतें तो बहुत सी है इस जिंदगी से ,परंतु चुप चाप मौन रहकर
Shashi kala vyas
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
देखिए लोग धोखा गलत इंसान से खाते हैं
शेखर सिंह
"एक सुबह मेघालय की"
अमित मिश्र
अद्भुद भारत देश
अद्भुद भारत देश
सोलंकी प्रशांत (An Explorer Of Life)
बैठे थे किसी की याद में
बैठे थे किसी की याद में
Sonit Parjapati
संगीत विहीन
संगीत विहीन
Mrs PUSHPA SHARMA {पुष्पा शर्मा अपराजिता}
हर किसी का एक मुकाम होता है,
हर किसी का एक मुकाम होता है,
Buddha Prakash
आप आजाद हैं? कहीं आप जानवर तो नहीं हो गए, थोड़े पालतू थोड़े
आप आजाद हैं? कहीं आप जानवर तो नहीं हो गए, थोड़े पालतू थोड़े
Sanjay ' शून्य'
Loading...