Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2022 · 1 min read

बुआ आई

बुआ आई
—————————–
देखो नन्ही
बुआ आई
बुआ आई
हमारे लिये भी
कुछ लाई
कुछ खट्टा
कुछ मीठा लाई

देखो देखो भैया
कौन आया है?
बुआ आई है
बुआ आई है
देखो बहना
क्या लाई है?

खोलो थैला
ऊपर नीचे
पलटो थैला
देखो बहना
लड्डु लाई
बर्फ़ी लाई
थोड़ी थोड़ी
खा लेते है
थोड़ी सी ही
खा लेते हैं
ये बात तुम
किसी को न कहना

इस झोले
को खोलो
देखो भैया
ढेर सारे
भरे खिलौने
सूंड उठाये
हाथी राजा
भालू मोटे
बड़े सलोने

———–
राजेश’ललित

13 Likes · 4 Comments · 717 Views
📢 Stay Updated with Sahityapedia!
Join our official announcements group on WhatsApp to receive all the major updates from Sahityapedia directly on your phone.
You may also like:
"शिलालेख "
Slok maurya "umang"
ये मन तुझसे गुजारिश है, मत कर किसी को याद इतना
ये मन तुझसे गुजारिश है, मत कर किसी को याद इतना
$úDhÁ MãÚ₹Yá
यूं ही कुछ लिख दिया था।
यूं ही कुछ लिख दिया था।
Taj Mohammad
Charlie Chaplin truly said:
Charlie Chaplin truly said:
Vansh Agarwal
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
बेगुनाह कोई नहीं है इस दुनिया में...
Radhakishan R. Mundhra
2788. *पूर्णिका*
2788. *पूर्णिका*
Dr.Khedu Bharti
#क़तआ (मुक्तक)
#क़तआ (मुक्तक)
*प्रणय प्रभात*
Mai koi kavi nhi hu,
Mai koi kavi nhi hu,
Sakshi Tripathi
हम और तुम
हम और तुम
Dinesh Yadav (दिनेश यादव)
काश ! लोग यह समझ पाते कि रिश्ते मनःस्थिति के ख्याल रखने हेतु
काश ! लोग यह समझ पाते कि रिश्ते मनःस्थिति के ख्याल रखने हेतु
मिथलेश सिंह"मिलिंद"
संवेदना
संवेदना
नेताम आर सी
शिव
शिव
Dr. Vaishali Verma
लोग खुश होते हैं तब
लोग खुश होते हैं तब
gurudeenverma198
फितरत कभी नहीं बदलती
फितरत कभी नहीं बदलती
Madhavi Srivastava
कुछ लोग चांद निकलने की ताक में रहते हैं,
कुछ लोग चांद निकलने की ताक में रहते हैं,
डॉ. शशांक शर्मा "रईस"
खिलेंगे फूल राहों में
खिलेंगे फूल राहों में
अनिल कुमार गुप्ता 'अंजुम'
वन्दे मातरम
वन्दे मातरम
Swami Ganganiya
“गणतंत्र दिवस”
“गणतंत्र दिवस”
पंकज कुमार कर्ण
तू भी इसां कहलाएगा
तू भी इसां कहलाएगा
Dinesh Kumar Gangwar
भूख सोने नहीं देती
भूख सोने नहीं देती
Shweta Soni
मेरी घरवाली
मेरी घरवाली
ऐ./सी.राकेश देवडे़ बिरसावादी
आज रात कोजागरी....
आज रात कोजागरी....
डॉ.सीमा अग्रवाल
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
*हमेशा साथ में आशीष, सौ लाती बुआऍं हैं (हिंदी गजल)*
Ravi Prakash
अगर आप हमारी मोहब्बत की कीमत लगाने जाएंगे,
अगर आप हमारी मोहब्बत की कीमत लगाने जाएंगे,
Kanchan Alok Malu
ଷଡ ରିପୁ
ଷଡ ରିପୁ
Bidyadhar Mantry
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
याद करने के लिए बस यारियां रह जाएंगी।
सत्य कुमार प्रेमी
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
धरा हमारी स्वच्छ हो, सबका हो उत्कर्ष।
surenderpal vaidya
"बेमानी"
Dr. Kishan tandon kranti
भरम
भरम
Shyam Sundar Subramanian
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
माँ की एक कोर में छप्पन का भोग🍓🍌🍎🍏
तारकेश्‍वर प्रसाद तरुण
Loading...