Sahityapedia
Login Create Account
Home
Search
Dashboard
Notifications
Settings
7 May 2022 · 1 min read

बुआ आई

बुआ आई
—————————–
देखो नन्ही
बुआ आई
बुआ आई
हमारे लिये भी
कुछ लाई
कुछ खट्टा
कुछ मीठा लाई

देखो देखो भैया
कौन आया है?
बुआ आई है
बुआ आई है
देखो बहना
क्या लाई है?

खोलो थैला
ऊपर नीचे
पलटो थैला
देखो बहना
लड्डु लाई
बर्फ़ी लाई
थोड़ी थोड़ी
खा लेते है
थोड़ी सी ही
खा लेते हैं
ये बात तुम
किसी को न कहना

इस झोले
को खोलो
देखो भैया
ढेर सारे
भरे खिलौने
सूंड उठाये
हाथी राजा
भालू मोटे
बड़े सलोने

———–
राजेश’ललित

7 Likes · 4 Comments · 394 Views
You may also like:
अजन्मी बेटी का दर्द !
Anamika Singh
मुकद्दर।
Taj Mohammad
*नहीं फिर रात होती है (मुक्तक)*
Ravi Prakash
दर्जी चाचा
Buddha Prakash
संविदा की नौकरी का दर्द
आकाश महेशपुरी
यकीन
Vikas Sharma'Shivaaya'
जीने की वजह
Seema 'Tu hai na'
उमीद-ए-फ़स्ल का होना है ख़ून लानत है
Anis Shah
ख़ुलूसो - अम्न के साए में काम करती हूँ
Dr Archana Gupta
इतना सन्नाटा क्यों है,भाई?
Shekhar Chandra Mitra
विरह का सिरा
Rashmi Sanjay
तीर्थ यात्रा
विशाल शुक्ल
है कौन सही है गलत क्या रक्खा इस नादानी में,
कवि गोपाल पाठक''कृष्णा''
मनुज शरीरों में भी वंदा, पशुवत जीवन जीता है
सुरेश कुमार चतुर्वेदी
तुझे देखा तो...
Dr. Meenakshi Sharma
तुम धूप छांव मेरे हिस्से की
Saraswati Bajpai
मेरी भोली ''माँ''
पाण्डेय चिदानन्द
पितृ स्तुति
दुष्यन्त 'बाबा'
कविता : 15 अगस्त
Prabhat Pandey
✍️मी फिनिक्स...!✍️
'अशांत' शेखर
ठीक है अब मैं भी
gurudeenverma198
Once Again You Visited My Dream Town
Manisha Manjari
कहां पता था
dks.lhp
जो व्यक्ति
Dr fauzia Naseem shad
"मौन "
DrLakshman Jha Parimal
💎🌴अब न उम्मीद बची है न इन्तजार बचा है🌴💎
शिवाभिषेक: 'आनन्द'(अभिषेक पाराशर)
सबको जीवन में खुशियां लुटाते रहे।
सत्य कुमार प्रेमी
"कश्मकश जिंदगी की"
Dr Meenu Poonia
पैसा
Sushil chauhan
जीवन मेला
DESH RAJ
Loading...